Bihar Assembly Election 2020: लोक जनशक्ति पार्टी (Lok janshakti party) के अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए (NDA) से नाता तोड़ लिया है.  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नाराजगी की वजह से वो अब एनडीए का हिस्सा तो नहीं रहेंगे, लेकिन वह बीजेपी के साथ बने रहेंगे. Also Read - BJP manifesto 2020: बिहार में NDA की सरकार बनी तो कोरोना का टीका फ्री, भाजपा ने लिए 11 संकल्प...

नीतीश की जदयू को हर सीट पर हराना ही हमारा मकसद: चिराग Also Read - भाजपा के 'चाणक्य' गृहमंत्री अमित शाह को पीएम मोदी ने दी जन्मदिन की बधाई, कही ये बात

एनडीटीवी को दिए इंटरव्यू में चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू (JDU) को हर सीट पर हराना ही हमारा मकसद है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार सहयोगियों की सुनते नहीं हैं. पासवान ने यह भी कहा कि हम JDU के साथ मजबूरी में थे और अब जनता दल यूनाइटेड (JDU) को हर सीट पर हराना ही हमारा मक़सद है. Also Read - नवरात्रि 2020 पर बंगाल के लोगों से आज जुड़ेंगे PM मोदी, 'पुजोर शुभेच्छा' के जरिए जनता को देंगे खास संदेश

पीएम मोदी की तारीफ, नीतीश पर तंज

चिराग पासवान ने कहा, “मैं हमेशा नीतीश कुमार के खिलाफ रहा. नीतीश का पत्ता हम नहीं जनता काटेगी.” गठबंधन को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि गठबंधन में रहने के लिए बीजेपी का कोई दबाव नहीं था. हम पीएम मोदी के प्रति समर्पित हैं. चुनाव नतीजों के बाद जेडीयू के साथ जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस पर अभी बात नहीं की जानी चाहिए.

तेजस्वी को बधाई दी 

वहीं, खुलेआम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को चुनौती देने के बाद सोमवार को चिराग पासवान ने विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को लेकर कहा कि वो उनके छोटे भाई के समान हैं और मेरी शुभकामना उनके साथ है. चिराग पासवान की इस टिप्पणी के बाद जेडीयू को उन पर हमला करने का मौका मिल गया है.

जदयू ने पूछा-पीएम मोदी की तारीफ, तेजस्वी को बधाई, चाहते क्या हैं

चिराग़ पासवान के इस बयान को लेकर जनता दल यूनाइटेड (JDU) के नेता काफ़ी आक्रामक हैं. उनका कहना है कि एक ओर चिराग़ पासवान “नरेंद्र मोदी ज़िंदाबाद” कर रहे हैं और दूसरी और तेजस्वी यादव को शुभकामना दे रहे हैं. ऐसे में भाजपा को अब तय करना चाहिए कि वो क्या एनडीए में रह सकते हैं. जनता दल यूनाइटेड के नेता इस बात से और चिढ़े हुए हैं कि भाजपा नेता चिराग़ के ‘एकला चलो रे’ और नीतीश कुमार को सत्ता में आने से ‘रोको रे’ के अभियान पर कुछ नहीं बोल रहे हैं.