पटनाः बिहार के अररिया जिले में पास मांगने पर चौकीदार से उठक-बैठक कराने वाले जिला कृषि पदाधिकारी मनोज कुमार को निलंबित कर दिया गया. इस घटना की खबर आईएएनएस ने प्रमुखता से जारी की थी. बिहार सरकार के कृषि विभाग ने मंगलवार को इस मामले का एक आदेश जारी कर दिया है. आदेश में कहा गया है कि विभागीय जांच में कृषि पदाधिकारी मनोज कुमार दोषी पाए गए, जिसके बाद सरकार ने यह कार्रवाई की. Also Read - Covid-19 in Bihar Update: प्रवासियों ने बिहार में तेजी से बढ़ाई संक्रमितों की संख्या, 163 नए मामले

कृषि मंत्री डॉ़ प्रेम कुमार ने कहा कि कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया के माध्यम से अररिया जिला कृषि पदाधिकारी मनोज कुमार द्वारा एक पुलिसकर्मी के साथ बदसलूकी किए जाने का एक वीडियो प्राप्त हुआ था, जिसपर संज्ञान लेकर कारण बताओ नोटिस, और जांच का आदेश दिया गया था. जांच कार्य प्रभावित न हो इसके लिए उनको वहां से हटा भी दिया गया था. जांच रिपोर्ट आते ही अररिया के तत्कालीन जिला कृषि पदाधिकारी को निलंबित कर दिया गया है. Also Read - साइकिल वाली ज्योति को सुपर 30 के आनंद कुमार का तोहफा, कहा- IIT परीक्षा की तैयारी करवाना सौभाग्य की बात

उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले अररिया में एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें जिला कृषि पदाधिकारी मनोज कुमार और स्थानीय पुलिस अधिकारी द्वारा एक चौकीदार को उठक-बैठक करवाते दिखाई दे रहे हैं. इस वीडियो के विषय में कहा गया कि चौकीदार द्वारा लॉकडाउन में पास मांगे जने पर अधिकारी ने चौकीदार से उठक-बैठक करवाया गया. Also Read - बिहार: घर में घुसकर RJD नेता पर हमला, मां, पिता और भाई की हत्या, JDU MLA समेत 4 पर आरोप

इस मामले में पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय के आदेश पर सहायक अवर निरीक्षक गोविंद सिंह को निलंबित कर दिया. इस बीच कृषि विभाग ने आरोपी मनोज कुमार को उप निदेशक बना दिया गया था.