पटना: बिहार विधानसभा चुनावों में एक के बाद एक सिसासी उठापटक देखने को मिल रहा है. इसी बीच बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे को जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने टिकट नहीं दिया है. बता दें कि गुप्तेश्वर पांडे हाल ही में अपने रिटायरमेंट से पहले डीजीपी पद को त्यागकर जेडीयू में शामिल हुए थे और चुनाव लड़ने का इरादा उनके मन में था, लेकिन पार्टी द्वारा टिकटों की सूची में गुप्तेश्वर पांडे का नाम नहीं है. Also Read - बिहार: कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय से 8 लाख रुपए बरामद, इनकम टैक्स अफसरों ने रणदीप सिंह सुरजेवाला से की पूछताछ

बता दें कि जदयू ने अपने 115 सीटों पर आज उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. पांडेय चुनाव बक्सन सीट से लड़ना चाहते थे, लेकिन गठबंधन समझौते के तहत यह सीट भाजपा के खाते में चली गई. यहां से पार्टी ने परशुराम चतुर्वेदी को अपना उम्मीदवार बनाया है. हालांकि यह पहली बार नहीं है जब चुनाव लड़ने की आस लिए गुप्तेश्वर पांडे ने अपने डीजीपी के पद से इस्तीफा दिया है. इससे पहले भी गुप्तेश्वर पांडे अपने पद से त्याग देकर राजनीति में आने के प्रयास कर चुके हैं, लेकिन उस दौरान भी टिकट न मिल पाने के कारण उन्होंने दोबारा अपने डीजीपी पद को ग्रहण किया था. Also Read - चिराग पासवान ने साधा नीतीश कुमार पर निशाना, बोले- कहीं लालू की शरण में न चले जाएं

बता दें कि गुप्तेश्वर पांडेय को टिकट नहीं दिए जाने पर कई तरह के सवाल उठने लगे हैं. उन्होंने कहा कि रिटायर होने के बाद सभी को लगा था कि मैं जदयू की टिकट से चुनाव लड़ूंगा लेकिन मैं चुनाव नहीं रहा हूं. गुप्तेश्वर पांडेय ने अपने शुभचिंतकों के लिए फेसबुक पर लिख-अपने अनेक शुभचिंतकों के फ़ोन से परेशान हूँ। मैं उनकी चिंता और परेशानी भी समझता हूँ। मेरे सेवामुक्त होने के बाद सबको उम्मीद थी कि मैं चुनाव लड़ूँगा लेकिन मैं इस बार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ रहा। हताश निराश होने की कोई बात नहीं है। धीरज रखें। मेरा जीवन संघर्ष में ही बीता है। मैं जीवन भर जनता की सेवा में रहूँगा। कृपया धीरज रखें और मुझे फ़ोन नहीं करे। बिहार की जनता को मेरा जीवन समर्पित है। अपनी जन्मभूमि बक्सर की धरती और वहाँ के सभी जाति मज़हब के सभी बड़े-छोटे भाई-बहनों माताओं और नौजवानों को मेरा पैर छू कर प्रणाम! अपना प्यार और आशीर्वाद बनाए रखें ! Also Read - Bihar Assembly Election: बिहार में कोरोना वैक्सीन मुफ्त बांटने के वादे से बवाल, बीजेपी के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत