Bihar Assembly Election 2020 की तैयारियां बिहार में जोरों-शोरों से चल रही है. ऐसे में सभी पार्टियां बिहार की जनता को लुभाने का प्रयास करती दिखाई दे रही है. कांग्रेस, भाजपा व सभी पार्टियों द्वारा मैनिफेस्टों जारी करने के बाद अब NDA सहयोगी जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने भी अपने घोषणापत्र को जारी कर दिया है. इस घोषणा पत्र पर पार्टी ने नारा दिया है ‘पूरे होते वादे, अब हैं नए इरादे.Also Read - UP Assembly Election 2022: यूपी चुनाव में भी साथ दिखेगी JDU-BJP की जोड़ी, तो क्या नीतीश करेंगे योगी का प्रचार?

जदयू के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि हमारा संकल्प , युवा शक्ति बिहार को प्रगति की राह पर ले जाना और आर्थिक हल-युवाओं को बल, आरक्षित रोजगार-महिलाओं को अधिकार इत्यादि बातों प उन्होंने मैनीफेस्टो का विवरण दिया. उन्होंने कहा कि हमने जो वादे किए है उन्हें पूरा भी किया है. इस बार के मैनिफेस्टो में किए गए वादों को भी पूरा किया जाएगा. साथ ही निश्चय 2 को पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा. Also Read - AssamAssemblyElections2021: भाजपा के 10 संकल्पों से होगा असम विजय, NRC होगा लागू, नौकरियों की होगी बहार

Also Read - BJP Manifesto vs Tmc Manifesto: TMC और BJP के मेनिफेस्टो में क्या है खास, यहां जानें अंतर

राजद के वादों पर हमला बोलते हुए वशिष्ठ नारायण सिंह नेक कहा कि नीतीश कुमार सिर्फ वादा करने के लिए ही नहीं कुछ बोलते, बल्कि जो वादा करते हैं उन्हें पूरा भी करते हैं. उन्होंने कहा कि आज के अनुभवहीन नेता कहते हैं कि 10 लाख रोजगार पैदा करेंगे. लेकिन इसके लिए 58 हजार करोड़ रुपये की लागत लगेगी. यह कहां से आएगी.

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि हमें झूठी घोषणा करने से बचना चाहिए. इस कार्यकाल में 2 निश्चय योजना को राज्य के हर गांव तक पहुंचाया जाएगा. वहीं 7 निश्चय योजना को राज्य के हर गांव तक पहुंचाया जा चुका है. हर घर बिजली पहुंचा जा चुकी है. अब खेतों में पानी की सुविधा आसान हो गई है. बता दें कि भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में 19 लाख रोजगार पैदा करने का वादा किया है.