Bihar Assembly Election 2020: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतनराम मांझी एक बार फिर से एनडीए की नाव में सवार होनेवाले हैं. इस खबर को लेकर पिछले कई दिनों से कयासबाजी का दौर चल रहा है. वैसे उनकी तरफ से एनडीए ज्वाइन करने की घोषणा आज ही होनेवाली थी, लेकिन अब वो कल यानि तीन सितंबर को इसका औपचारिक ऐलान करेंगे. Also Read - कृषि विधेयकों पर संग्राम: कांग्रेस ने कहा किसानों के लिए ‘डेथ वारंट’, भाजपा ने लगाया गुमराह करने का आरोप

बताया जा रहा है कि कल मांझी के एनडीए में शामिल होने के दौरान एनडीए के घटक दल के रूप में बीजेपी के नेता भी उपसिथत रहेंगे. जीतनराम मांझी नहीं चाहते कि उनपर केवल जेडीयू के सहयोग से गठबंधन में आने की बात को बल मिले. इसीलिए ऐसा किया गया है. Also Read - Unlock-4: बिहार से नेपाल, यूपी और झारखंड के लिए जल्द खुलेंगी बसें, हो रही तैयारी

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा’ हम के प्रवक्‍ता दानिश रिजवान ने कहा है कि उनकी पार्टी तीन सितंबर को एनडीए में शामिल हो जाएगी. एनडीए में अब इसके साथ ही चार दल हो जाएंगे. पहले से भारतीय जनता पार्टी (BJP), जनता दल यूनाइटेड (JDU) व लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) एनडीए का हिस्सा थे और अब कल से हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा (HAM) की एंट्री बतौर चौथी पार्टी के रूप में होगी. Also Read - बिहार में पोस्टर वार: 'एक ऐसा परिवार जो बिहार पर भार' लालू 'सजायाफ्ता कैदी नंबर 3351'

दानिश रिजवान ने कहा है कि उनकी पार्टी तीन सितंबर को एनडीए में शामिल हो जाएगी. एनडीए में शामिल होने के पीछे किसी तरह की कोई शर्त नहीं रखी गई है. उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी बिहार के विकास के लिए एनडीए में शामिल हो रही है, न कि सीट पाने के लिए. उन्‍होंने कहा कि पार्टी ने एनडीए में सीट शेयरिंग को लेकर कोई बात नहीं की है. ये सब समय आने पर तय कर लिया जाएगा.

जीतनराम मांझी की पार्टी हम के जेडीयू में विलय या एनडीए में शामिल होने को लेकर कयास लगाए जा रहे थे. इस बीच मांझी ने जेडीयू सुप्रीमाे व मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात भी की थी, जिसके बाद कहा जा रहा था कि उनकी डील पक्की हो गई है.