Bihar Assembly Election 2020: बिहार में चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दल अब अपनी-अपनी पार्टी के लिए पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतरने को तैयार हैं. लेकिन एनडीए में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. चिराग पासवान ने अपनी  की लोक जन शक्ति पार्टी (LJP) के लिए संकल्प पत्र लॉन्च कर दिया है. पार्टी ने बिहार, दिल्ली और मुंबई के महत्वपूर्ण अख़बारों में विज्ञापन प्रकाशित करवाया है. Also Read - Unlock-4: बिहार से नेपाल, यूपी और झारखंड के लिए जल्द खुलेंगी बसें, हो रही तैयारी

विज्ञापन में लिखा है कि नया बिहार और युवा बिहार बनाने के लिए सभी बिहारी भाइयों-बहनों को युवा बिहारी चिराग पासवान (Chirag Paswan) के साथ चलना होगा. इस विज्ञापन में यह भी कहा गया है कि यही समय है जब बिहार के अस्मिता की लड़ाई सभी बिहारी को लड़नी होगी ताकि हम सब बिहार पर नाज़ कर सकें. Also Read - बिहार में पोस्टर वार: 'एक ऐसा परिवार जो बिहार पर भार' लालू 'सजायाफ्ता कैदी नंबर 3351'

लोक जनशक्ति पार्टी सभी जाति धर्म में आस्था रखती है और सभी को हमेशा से साथ लेकर चली है. विज्ञापन में धर्म ना जात, करें सबकी बात पार्टी के पुराने टैग लाइन को दोहराया है. इस विज्ञापन से पार्टी की मंशा जाहिर हो रही है और इसे अब सीधे तौर पर सीएम नीतीश के लिए ही चुनौती माना जा रहा है. Also Read - बिहार: विधायक जी ने दी धमकी-अगर हम हारे तो तुम्हारे गांव में अकाल पड़ेगा, Video पर बवाल

चिराग के संकल्प पत्र को लेकर अभी हाल ही में एनडीए  में शामिल हुए हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने चिराग को हिदायत देते हुए कहा कि लोजपा जेडीयू के खिलाफ ना जाये वरना मैं खड़ा हूं. मांझी ने कहा कि लोजपा अगर जेडीयू के खिलाफ उम्मीदवार खड़ा करेगा तो वैसी सभी लोजपा की सीट के खिलाफ मेरा उम्मीदवार होगा. नीतीश के खिलाफ लोजपा की बगावत बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. चिराग आवाज उठाएंगे तो जवाब मैं दूंगा.

मांझी ने कहा कि रामविलास पासवान ने दलितों के लिए कुछ नहीं किया है. मांझी ने कहा कि सिर्फ फायदे के लिए मैं काम नहीं करता. मुझे एनडीए में राज्यपाल बनाया जा रहा था पर नहीं बना. मांझी ने यह भी कहा कि इस बार चुनाव लड़ने की मेरी इच्छा नहीं है, लेकिन नीतीश कुमार जैसा चाहेंगे वैसा करेंगे.

एनडीए में लोजपा और हम के बीच मची इस रार पर राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने जीतन राम मांझी को डूबती नैया बताते हुए कहा कि मांझी जी नीतीश के साथ खड़े तो हो गए, लेकिन उनकी नैया की पतवार जनता ने ही जब्त कर ली है. एनडीए में किस तरह आग लगेगी ये देखना बाकी है क्योंकि एनडीए के घर के चिराग से आग लगनी तय है.