सकरा/महनार/महुआ: मुजफ्फरपुर के सकरा में एक चुनावी रैली के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के हेलीकॉप्टर की तरफ चप्पल फेंक दी गई. चप्पल हेलीकॉप्टर तक नहीं पहुंची. पुलिस उपाधीक्षक (मुजफ्फरपुर पूर्वी) मनोज पांडेय ने बताया कि रैली के दौरान हेलीपैड पर खड़े मुख्यमंत्री के हेलीकॉप्टर की तरफ चप्पल फेंकी गई. उस समय मुख्यमंत्री मंच पर थे. उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री की रैली में व्यवधान पैदा करने के आरोप में तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है. Also Read - बिहार: JDU विधायक के करीबियों पर अंधाधुंध फायरिंग, 2 की मौत, भीड़ ने दो आरोपियों को पकड़ा, पिटाई

चप्पल फेंकने की घटना के समय कुछ लोग नारेबाजी भी कर रहे थे. गौरतलब है कि सकरा की रैली से पहले भी मुख्यमंत्री को कुछ रैलियों में विरोध की स्थिति का सामना करना पड़ा है. कुछ स्थानों पर कुमार ने शोरशराबा करने वालों पर नाराजगी भी व्यक्त की और उनपर राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों की शह पर काम करने का आरोप लगाया तथा कहा कि इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता है. Also Read - तेजस्वी ने नीतीश पर की व्यक्तिगत टिप्पणी, सीएम बोले- राजनीति में आगे बढ़ना है तो ठीक से व्यवहार करना सीख लो

सकरा, महुआ और महनार की रैलियों में नीतीश ने राजद पर निशाना साधा और उसपर लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाया. उन्होंने तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के दस लाख नौकरी देने के वादे पर भी तंज कसा. राजद पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि कुछ लोगों को चुनाव के समय तरह-तरह के वादे करने और ठगने की आदत होती है लेकिन उन्हें काम से कोई मतलब नहीं होता है. उन्होंने कहा, ‘‘हमने जो कहा, वह करके दिखाया है और आगे भी काम करेंगे.’’ नीतीश ने यह बात वैशाली के महुआ क्षेत्र में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कही. Also Read - Bihar Politics: तेजस्वी यादव पर भड़के नीतीश कुमार, बोले- मेरे दोस्त का बेटा है, इसलिए सुन लेता हूं

गौरतलब है कि 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में राजद प्रमुख लालू प्रसाद (Lalu Prasad Yadav) के बड़े पुत्र तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने महुआ सीट से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी. लेकिन इस बार तेज प्रताप यादव अपनी पुरानी महुआ सीट छोड़कर समस्तीपुर की हसनपुर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. महुआ सीट से जद (यू) उम्मीदवार आसमां परवीन मैदान में हैं. नीतीश ने महुआ में रैली को संबोधित करते हुए तेजप्रताप यादव का नाम तो नहीं लिया लेकिन कहा कि कुछ लोगों की आदत कुछ न कुछ बोलते रहने, लोगों को ठगने और भ्रमित करने की होती है.