Bihar Assembly Polls 2020: गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election 2020) में लोजपा (LJP) के अलग होने के कारण का खुलासा कर दिया है. अमित शाह ने कहा कि NDA में LJP को बनाए रखने के लिए पर्याप्त संख्या में सीट ऑफर की गई थी. चिराग पासवान से कई बार बात हुई पर वे माने नहीं और लोजपा NDA गठबंधन से अलग हो गई. एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि अलग होने का फैसला उनका था, हमारा नहीं. लेकिन अब एनडीए में JDU, BJP, VIP और हम का मजबूत गठबंधन है. हम दो-तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाएंगे. Also Read - Bihar 2nd Phase election 2020: दूसरा चरण तय कर देगा बिहार की सियासी तस्वीर, दिग्गजों में है भिड़ंत

जब शाह से पूछा गया कि बिहार में अगर BJP की सीटें JDU से अधिक आती हैं तो क्या पार्टी मुख्यमंत्री पद पर दावेदारी करेगी, इस पर उन्होंने कहा, ‘कोई अगर, मगर की बात नहीं है. नीतीश कुमार बिहार के अगले मुख्यमंत्री होंगे. हमने सार्वजनिक घोषणा की है और हम इसे लेकर प्रतिबद्ध हैं.’ Also Read - पुलवामा हमले को देश कभी नहीं भूल सकता,  मैंने भद्दी राजनीति झेली लेकिन अब विरोधी बेनकाब: PM मोदी

लद्दाख में चीन के साथ जारी गतिरोध पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार देश की एक-एक इंच जमीन को बचाने के लिए पूरी तरह सजग है और कोई इस पर कब्जा नहीं कर सकता. शाह ने यह भी कहा कि सरकार चीन में लद्दाख के साथ गतिरोध को सुलझाने के लिए हरसंभव सैन्य और कूटनीतिक कदम उठा रही है. क्या चीन ने भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया है, इस प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा, ‘हम अपने एक-एक इंच भूभाग को लेकर चौकन्ने हैं, कोई इस पर कब्जा नहीं कर सकता. हमारे रक्षा बल और नेतृत्व देश की संप्रभुता और सीमा की रक्षा करने में सक्षम हैं.’ गृह मंत्री ने यह भी कहा कि सरकार देश की संप्रभुता और सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है. Also Read - प्रधानमंत्री मोदी के गुजरात दौरे का दूसरा दिन आज, Seaplane सेवा की करेंगे शुरुआत

इसके अलावा गृहमंत्री ने अगले साल पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव की भी बात की और उम्मीद जताई कि वहां सरकार बदलेगी और भाजपा सत्ता में आएगी. उन्होंने कहा, ‘हमें लगता है कि हम पश्चिम बंगाल में मजबूती से लड़ेंगे और सरकार बनाएंगे.’ उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था की स्थिति गंभीर है और भाजपा जैसे राजनीतिक दलों को वहां राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करने का हर अधिकार है. शाह ने कहा, ‘हालांकि केंद्र सरकार संविधान को ध्यान में रखते हुए और राज्यपाल की रिपोर्ट के आधार पर उचित निर्णय लेगी.’

उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक युवती के कथित गैंगरेप और उसकी मौत की घटना के बारे में पूछे जाने पर गृह मंत्री ने विपक्ष पर राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि घटना वाले दिन ही सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया था और सीबीआई जांच चल रही है. उन्होंने कहा, ‘हाथरस में बलात्कार हुआ और ऐसी ही घटना राजस्थान में घटी. लेकिन राजनीति केवल हाथरस तक सीमित रही. किसी ने राजस्थान के विषय को नहीं उठाया. हाथरस मामले में आरोपियों को उसी दिन गिरफ्तार कर लिया गया था. एक समिति का गठन जांच के लिए किया गया. सीबीआई भी जांच कर रही है. इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.’

(इनपुट: भाषा)