Bihar Assembly Election Date 2020: चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है. बिहार में सभी राजनीतिक दल और जनता बेसब्री से तारीखों के ऐलान का इंतजार कर रहे थे. बता दें कि बिहार की 243 सदस्यीय विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर को खत्म हो रहा है. इसे देखते हुए चुनाव आयोग ने तीन चरणों में मतदान कराने का फैसला किया है और आज इसकी विधिवत घोषणा कर दी है. मुख्य चुनाव आयुक्त ने प्रेस कांफ्रेंस में ये जानकारी दी.Also Read - प्रशांत किशोर आज बिहार में 3500 किमी की पदयात्रा पश्चिम चंपारण जिले से शुरू करेंगे

जानिए कहां-कब होगा चुनाव Also Read - सुप्रीम कोर्ट ने EVM को लेकर दायर याचिका खारिज की, फटकार भी लगाई

-पहले चरण में 28 अक्टूबर को भागलपुर, बांका, मुंगेर, लखीसराय, शेखपुरा, जमुई, खगड़िया, बेगूसराय, पूर्णिया, अररिया, किशनगंज और कटिहार जिले में मतदान होगा. Also Read - Bihar Politics: लालू को फिर से राजद का अध्यक्ष बनाया जाना उनकी छवि भुनाने की कोशिश है क्या?

-दूसरे चरण में तीन नवंबर को उत्तर बिहार के जिलों मुजफ्फरपुर, सीतामढी, शिवहर, पश्चिमी चंपाण, पूर्वी चंपारण, वैशाली, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, सहरसा, सुपौल और मधेपुरा जिले में वोट डाले जाएंगे

-तीसरे चरण में सात नवंबर को बोधगया सहित 7 जिले जहानाबाद, अरवल, नवादा, औरंगाबाद, कैमूर और रोहतास,पटना सहित बक्सर, सारण, भोजपुर, नालंदा, गोपालगंज और सीवान में मतदान होंगे.

CEC सुनील अरोड़ा ने बताया कि पहले फेज में 71 निर्वाचन क्षेत्र, 16 जिले (31 हजार मतदान केंद्र), दूसरे फेज में 94 निर्वाचन क्षेत्र, 17 जिले (42 हजार मतदान केंद्र) और तीसरे फेज में 78 निर्वाचन क्षेत्र, 15 जिले (33.5 हजार मतदान केंद्र) में चुनाव संपन्न कराए जाएंगे.

चुनाव आयोग ने आज सुबह से ही ये जानकारी दी है कि आज यानि शुक्रवार की दोपहर साढ़े 12 बजे एक संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया जाएगा और उसमें  चुनाव के तारीखों की घोषणा की जाएगी. चुनाव के जिन तारीखों की आज घोषणा होगी उसमें बिहार की विधानसभा की सीटों के साथ ही 64 विधानसभा सीटों में मध्यप्रदेश की 27 सीटें शामिल हैं, जहां उपचुनाव होना है. इन 27 सीटों में से अधिकतर कांग्रेस के बागी सदस्यों के पार्टी तथा विधानसभा से इस्तीफा देने और भाजपा में शामिल होने के बाद खाली हुईं थीं.

कोरोना काल में देश में पहली बार बिहार में हो रहा विधानसभा चुनाव

कोरोना वायरस के कारण बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव सबसे अलग, अनूठे और चुनौतीपूर्ण होंगे. इस महामारी के कारण पहले विधानसभा चुनाव का सभी विपक्षी पार्टियों ने विरोध किया था लेकिन जब चुनाव आयोग ने कहा कि चुनाव तय समय पर होंगे तो सभी चुनाव की तैयारियों में जुट गए हैं .