Bihar Assembly Election 2020: बिहार में दूसरे फेज के चुनाव से पहले आरोप-प्रत्यारोप का दौर तेज हो गया है. सत्ताधारी और विपक्षी पार्टियां पूरे जोर शोर से चुनाव प्रचार में लगी हुई है. 3 तारीख को होने वाले चुनाव के लिए प्रचार रविवार शाम को थम जाएगा. इस बीच बिहार में विपक्षी दलों के गठबंधन के मुख्यमंत्री उम्मीदवार तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने प्याज और आलू की कीमतों में हुई बढ़ोतरी को लेकर BJP पर जबरदस्त सियासी हमला बोला है. उन्होंने BJP नेताओं पर कटाक्ष करते हुए कहा कि महंगाई पहले इनके लिए ‘डायन’ थी लेकिन अब ‘भौजाई’ बन गई है.Also Read - UP Election 2022: अमित शाह की जाट नेताओं से मीटिंग, BJP सांसद के प्रस्‍ताव पर जयंत चौधरी ने दिया जवाब

Also Read - UP Elections 2022: Congress ने यूपी चुनाव के लिए 89 और उम्मीदवारों के नाम घोषित किए, देखें List

तेजस्वी ने अपने सभी चुनावी सभाओं में प्याज की कीमतों में हुई वृद्धि को लेकर भाजपा और जेडीयू को घेरने की कोशिश की. समस्तीपुर के हसनपुर में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्याज का दाम अब शतक लगा रहा है जबकि आलू अर्धशतक पूरा कर चुका है. भाजपा के लोग पहले प्याज की बढ़ी कीमत पर प्याज का माला पहनकर ‘महंगाई डायन खाए जात है’ गाते थे, लेकिन अब लगता है कि महंगाई इनकी ‘भौजाई’ हो गई है. Also Read - Punjab Polls 2022: नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ अमृतसर पूर्व से चुनाव लड़ेंगे SAD नेता बिक्रम सिंह मजीठिया

बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी लिखा, ‘महंगाई ने आम आदमी का जीना मुहाल कर दिया है. प्याज ने शतक लगा दिया है. भाजपा वालों के लिए पहले महंगाई डायन थी, अब भौजाई है. डबल इंजन सरकार महंगाई, बेरोजगारी और गरीबी पर विमर्श ही नहीं करना चाहती.’ तेजस्वी लगातार नीतीश सरकार पर विभिन्न मुद्दों को लेकर निशाना साध रहे हैं.

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Polls) के दूसरे चरण का मतदान यहां की सियासी तस्वीर साफ कर देगा. इस चरण में जहां प्रबल प्रतिद्वंद्वी राजद के साथ सबसे ज्यादा 94 में से 28 सीटों पर भाजपा की सीधी भिड़ंत है, तो वहीं 2015 में राजद के साथ गठबंधन करके भाजपा से मुकाबला करने वाले जेडीयू को भी इस चरण में 24 सीटों पर राजद से निपटना है. रही बात कांग्रेस की तो 24 सीटों के साथ उसका भी इस चरण में भाजपा और जेडीयू के दिग्गजों से सीधा मुकाबला है.

बता दें कि बिहार विधानसभा के दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 सीटों के लिए 1514 प्रत्‍याशी चुनावी मैदान में हैं. ये दूसरा चरण एनडीए (NDA) एवं विपक्षी महागठबंधन (Grand Alliance), दोनों के बीच हार-जीत के खेल का बड़ा प्लेटफार्म साबित होने वाला है, क्योंकि पहले और दूसरे चरण को मिलाकर दो तिहाई से ज्यादा सीटों पर प्रत्याशियों की किस्मत इस चरण में तय हो जाएगी. तीसरे चरण का चुनाव 7 नवंबर को होना और मतों की गिनती 10 को होगी.

(इनपुट: IANS)