नई दिल्लीः विधानसभा चुनाव के लगभग 20 दिन बीत जाने के बाद भी महाराष्ट्र में कोई राजनीतिक पार्टी सरकार नहीं बना सकी है. लेकिन अब इस पूरे मामले का अंत होने की संभावना नजर आ रही है.  शिवसेना भाजपा से अपने रिश्ते तोड़कर सीएम पद के लिए एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन करने जा रही है. महाराष्ट्र की इस राजनीतिक उठा पटक के बीच बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने भी तंज कसा है. NDA से शिवसेना के अलग होने के सवाल पर नीतीश कुमार ने कहा कि वहां के बारे में वहां के लोग जाने हमें इससे क्या लेना देना है. बिहार में भी कई बार भाजपा और जेडीयू के बीच तकरार की खबरें आ चुकी हैं.

आपको बता दें कि महाराष्ट्र के पूरे हालात से कुछ देर में पर्दा उठने की उम्मीद है और माना जा रहा है कि आज यह बात साफ हो जाएगी कि राज्य में किस पार्टी की सरकार बनेगी और किन शर्तों पर. उधर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र के हालात के लिए भाजपा जिम्मेदार है और विपक्ष मे बैठने की बात भाजपा के अहंकार को दिखाती है.

सूत्रों के अनुसार महाराष्ट्र की राजनीति में इस बार बड़ा बदलाव होने जा है. राजनीति विश्लेषकों को कहना है कि अगर सत्ता के लिए शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाती है तो यह एक बेमेल सरकार होगी. इस समय पूरे देश की नजर महाराष्ट्र पर बनी हुई है. सूत्रों ने बताया कि शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे खुद सीएम बन सकते हैं और एनसीपी नेता अजित पवार डिप्टी सीएम हो सकते हैं और कांग्रेस को महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष का पद मिल सकता है.