पटना. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी पार्टी को उसके पुराने ढर्रे से निकालने की भले लाख कोशिश कर रहे हों, लेकिन पार्टी के नेता हैं कि अब भी गांधी-परिवार से अपना ‘नाता’ तोड़ने को राजी नहीं हैं. शायद यही वजह है कि राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश को जानते-बूझते हुए भी मानने से इनकार किया जा रहा है. इस क्रम में बिहार प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने राहुल गांधी को मनाने के लिए जो काम किया है, वह अपने आप में अनूठा है. बिहार में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से अपने पद पर बने रहने की गुहार लगाते हुए अपने खून से पत्र लिखा है.

जिम्मेदारी से भागते हैं राहुल गांधी! क्या इस कारण ‘फाइटर’ चौधरी को चुनना पड़ा लोकसभा में कांग्रेस का नेता?

कांग्रेस के कई कार्यकर्ता गुरुवार को पटना स्थित प्रदेश कार्यालय पहुंचे और पहले सिरिंज से खून निकलवाया, फिर उसमें पेन डुबोकर राहुल गांधी के नाम पत्र लिखा. उल्लेखनीय है कि राहुल गांधी लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष पद से अपने इस्तीफे पर अड़े हुए हैं. इस कार्यक्रम के आयोजक बिहार प्रदेश युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष कुमार आशीष ने कहा, “अध्यक्ष पद पर राहुल गांधी बने रहें, यह हमलोगों का आग्रह है. एक महीना हो गया, अभी तक उन्होंने अपना निर्णय वापस नहीं लिया है. बिहार के कई युवा नेता ‘रक्तपत्र’ भेजकर उनसे आग्रह कर रहे हैं कि वे अपने निर्णय पर पुनर्विचार करें. उनके सिवाय राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में हमें और कोई स्वीकार नहीं है.”

कांग्रेस नहीं रहेगी अब 'गांधी' के भरोसे, इस 'जादूगर' के हाथ में आ सकती है कमान

कांग्रेस नहीं रहेगी अब 'गांधी' के भरोसे, इस 'जादूगर' के हाथ में आ सकती है कमान

उन्होंने कहा, “बिहार के कांग्रेस कार्यकर्ता अध्यक्ष राहुल गांधीजी को यह संदेश देना चाहते हैं कि बिहार में ही नहीं, बल्कि पूरे देश में युवा आपके साथ तैयार हैं. आप पार्टी का नेतृत्व करते रहें और हमलोग कांग्रेस को आगे बढ़ाएंगे.” उन्होंने दावा किया कि कम से कम 20 कार्यकर्ताओं ने अपने रक्त से पत्र लिखकर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा को सौंप दिया है, जो राहुल गांधी तक इसे पहुंचाएंगे. आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार की जिम्मेदारी स्वीकारते हुए अपना पद छोड़ने की घोषणा की है. पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं के आग्रह के बावजूद राहुल अध्यक्ष पद पर रहने को तैयार नहीं हैं. मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि राहुल गांधी चाहते हैं कि पार्टी की ओवर-हॉलिंग की जाए. पार्टी को नया अध्यक्ष मिले, जो नए तरीके से इसका संचालन करे.

(इनपुट – एजेंसी)