कटिहार (बिहार): लोगों न्‍याय देने वाले एक जज पर ही ये गंभीर आरोप लगा है. आरोप है कि जिला एवं सत्र न्यायाधीश की गाड़ी जब जाम में फंस गई तो गुस्‍से में बिफरते हुए अपने ही सुरक्षाकर्मी को थप्‍पड़ मार दिया और इतना ही नहीं उन्‍होंने गुस्‍से में सुरक्षाकर्मी की वर्दी तक फाड़ दी. जब गुस्‍सा शांत नहीं हुआ तो अदालत परिसर में गाड़ी के पहुंचने तक वह अभद्र भाषा का प्रयोग करते रहे.

बिहार के कटिहार जिले के एक न्यायाधीश पर उनके एक सुरक्षा कर्मी ने गाड़ी के जाम में फंसने को लेकर मारपीट करने और वर्दी फाड़ देने का आरोप लगाया है. पुलिस अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी. सहायक थाना अध्यक्ष राजेश कुमार ने गुरुवार को बताया कि कटिहार जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रदीप कुमार मल्लिक द्वारा सुरक्षा गार्ड सिपाही हरिवंश कुमार पर कार्यालय कक्ष में आकर अभद्र भाषा का प्रयोग करने का आरोप लगाते हुए लिखित शिकायत की है. उन्होंने बताया कि दोनों ओर से प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और कानूनी रूप से मामले की उच्च स्तरीय जांच की जा रही है.

सुरक्षाकर्मी हरिवंश द्वारा बुधवार रात इस मामले में प्राथमिकी दर्ज कराई गई. इसमें उसने आरोप लगाया है कि बुधवार को जब वह ज़िला एवम सत्र न्यायाधीश को गाड़ी से उनके आवास से लेकर न्यायालय जा रहे थे इस दौरान मिर्चाईबारी चौक पर जाम में गाड़ी फंस गई. जाम होने के कारण जिला एवं सत्र न्यायाधीश बिफर गए.

सुरक्षाकर्मी ने शिकायत में आरोप लगाया है कि गुस्से में उस पर बिफरते हुए न्यायाधीश ने थप्पड़ मारा और वर्दी फाड़ दी. उसने आरोप लगाया है कि अदालत परिसर में गाड़ी के पहुंचने तक वह अभद्र भाषा का प्रयोग करते रहे.

हरिवंश ने न्यायाधीश पर अदालत पहुंचने पर भी उसके साथ मारपीट करने का आरोप लगाया है. अपनी शिकायत में उसने कहा है कि वह जान बचाने के लिए समाहरणालय की तरफ भागा और बाद में पुलिस मेंस एसोसिएशन के सदस्यों के साथ पुलिस अधीक्षक के कार्यालय पहुंचकर पुलिस अधीक्षक से मिलकर न्याय की गुहार लगाई. इसके बाद एफआईआर दर्ज कराई गई.