Bihar Election 2020:कांग्रेस ने जाले विधानसभा सीट से मशकूर अहमद उस्मानी (Mashkur Ahmed Usmani) को टिकट क्या दिया,  बिहार की सियासत में हंगामा मचा हुआ है. इसकी वजह ये है कि उस्मानी पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (Aligarh Muslim University) के छात्रसंघ अध्यक्ष रहते हुए जिन्ना की तस्वीर कमरे के अंदर लगाने का आरोप लगा था. जिन्ना का महिमामंडन करने पर काफी हंगामा मचा था. Also Read - आज बिहार में ताबड़तोड़ रैलियां करेंगे योगी आदित्यनाथ, जानें किन जगहों पर किस समय होंगे मौजूद

ऐसे उम्मीदवार को कांग्रेस ने दरभंगा के जाले से टिकट दिया है जिसके बाद बीजेपी नेता प्रेम रंजन पटेल ने कांग्रेस पर जुबानी हमला करते हुए कहा कि कंग्रेस को कभी देश की एकता और अखंडता से मतलब नहीं. जिसने देश को विभाजन करने का काम किया उसका समर्थन करने वाले को टिकट दिया गया है. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: अमित शाह ने फिर कहा- बिहार में नीतीश के नेतृत्व में ही हो रहा चुनाव, चिराग से नहीं है कोई लेना-देना, आखिर क्यों...

वहीं इस मामले पर जदयू प्रवक्ता अरविंद निषाद ने कहा कि कोई भी पार्टी टिकट देते समय उम्मीदवार के चरित्र को जरूर देखती है पर कांग्रेस हमेशा ऐसे ही विवादित लोगों को टिकट देती रही है. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: कार्टून के जरिए लालू ने किया नीतीश पर तंज, कहा- थक गए हैं, आराम कीजिए

हालांकि, कांग्रेस अपने उम्मीदवार के बचाव में उतर आई है. पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा कि जब कोई मुद्दा नहीं मिलता तो बीजेपी ऐसी ही बात करती है. कांग्रेस नेता हरखू झा ने बीजेपी और जेडीयू के बयानों का कड़े शब्दों में पलटवार करते हुए कहा कि बीजेपी को पहले अपने गिरेबान में झांकना चाहिए. जो पार्टी गांधी के हत्यारे गोडसे का महिमामंडन करती है, उसे सदन भेजती है वो आज सवाल कैसे खड़े कर रही है. उस्मानी ने कभी जिन्ना का महिमामंडन नहीं किया है.

इस मामले से राजद ने अपना पल्ला झाड़ लिया है. पार्टी के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि कांग्रेस के जाले उम्मीदवार के बारे में मुझे जानकारी नहीं. कांग्रेस ने सोच-समझकर उम्मीदवार तय किया होगा. हमारे लिए आज मुद्दा जिन्ना नहीं है. हमारे लिए मुद्दा बेरोजगारी, गरीबी, बिहार में किसानों की समस्या है.