पटना: बिहार में इस साल होने वाले चुनाव के पहले राष्ट्रीय जनता दल (राजद) में हलचल तेज है. पार्टी के अध्यक्ष लालू प्रसाद को पत्र भेजकर पार्टी से इस्तीफा दे चुके पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र भेजकर कुछ मांगें रखी हैं. इससे पहले लालू प्रसाद ने भी सिंह के इस्तीफे के बाद गुरुवार को उन्हें पत्र लिखा था, लेकिन सिंह ने अब तक उसका कोई जवाब नहीं दिया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंह ने बिहार के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि वैशाली गणतंत्र की जननी है. उन्होंने पत्र में मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि वे 15 अगस्त को पटना में और 26 जनवरी को वैशाली में राष्ट्रध्वज फहराने का फैसला करें. उन्होंने इसके लिए 2000 के पहले झारखंड बंटवारे का जिक्र करते हुए कहा है कि तब 26 जनवरी को रांची में झंडोत्तोलन होता था. Also Read - बिहार में दुकानदार ने नहीं दिया गुटखा, तो बदमाश ने मारी गोली, 2 की मौत

इसके अलावे उन्होंने मनरेगा से जुडे कार्यो में भी कुछ बदलाव की मांग की है. इसके अलावा, रघुवंश प्रसाद ने भगवान बुद्ध का पवित्र भिक्षापात्र अफगानिस्तान से वैशाली लाने की भी मांग रखी है. सिंह ने पत्र में कहा कि वे इस मुद्दे को लोकसभा में भी उठा चुके हैं. उल्लेखनीय है कि गुरुवार को रघुवंश प्रसाद सिंह ने लालू प्रसाद को एक पत्र लिखा था जिसमें उन्होंने कहा था, कर्पूरी ठाकुर के निधन के बाद 32 वर्षो तक आपके पीठ पीछे खड़ा रहा, लेकिन अब नहीं. उन्होंने पत्र में लोगों से माफी मांगते हुए आगे लिखा था, पार्टी, नेता, कार्यकर्ता और आमजन ने बड़ा स्नेह दिया, क्षमा करें. Also Read - विधानसभा चुनावों से पहले बिहार को मिली सौगात, कोसी रेल पुल का पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

सूत्रों का कहना है कि राजद से इस्तीफा दिए जाने के बाद भाजपा और जदयू के कई नेता सिंह से संपर्क में हैं. इस पत्र के बाद बिहार की सियासत गर्म हो गई है. इसके बाद रााजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने जेल से ही सिंह को पत्र लिखकर ‘डैमेज कंट्रेाल’ में जुट गए. लालू प्रसाद ने पत्र में लिखा, आपके द्वारा कथित तौर पर लिखी एक चिट्ठी मीडिया में चलाई जा रही है. मुझे तो विश्वास ही नहीं होता. अभी मेरे, मेरे परिवार और मेरे साथ मिलकर सिंचित राजद परिवार आपको शीघ्र स्वस्थ होकर अपने बीच देखना चाहता है. Also Read - बिहार के इस RJD नेता ने कहा- 'राजपूत नहीं थे सुशांत, महाराणा प्रताप के वंशज सुसाइड नहीं करते'

पत्र में लालू ने आगे लिखा, चार दशकों में हमने हर राजनीतिक, सामाजिक और यहां तक कि पारिवारिक मामलों में मिल-बैठकर ही विचार किया है. आप जल्द स्वस्थ हो जाएं, फिर बैठकर बात करेंगे. आप कहीं नहीं जा रहे हैं. समझ लीजिए. फिलहाल रघुवंश प्रसाद सिंह स्वास्थ्य कारणों से दिल्ली एम्स में इलाजरत हैं, जबकि चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू प्रसाद स्वास्थ्य कारणों से रांची के रिम्स में हैं.