सहरसा: बिहार के सहरसा जिले में सेप्टिक टैंक में उतरे चार मजदूरों की दम घुटने से दर्दनाक मौत हो गई जबकि एक मजदूर को गंभीर हालत में इलाज के लिए भर्ती कराया गया.  ये दर्दनाक हादसा उस समय घटित हुआ जब एक नव निर्मित सेप्टिक टैंक में मचान हटाने के लिए ये मजदूर अन्दर उतरे थे. स्थानीय पुलिस के मुताबिक टैंक में उतरे पांच मजदूरों में से चार को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया जबकि एक अन्य मजदूर बेहोश हो गया. Also Read - छत्तीसगढ़: टैंक में उतरे चार सफाईकर्मियों की मौत, देखने उतरी महिला की भी गई जान

ये था मामला
घटना शनिवार की है जब सहरसा जिले के सोनबरसा थाना क्षेत्र के सोनबरसा राज इलाके में स्थित हटिया में एक मकान में नवनिर्मित सेप्टिक टैंक से मचान को हटाने और सेंट्रिंग खोलने के लिए पांच मजदूर टैंक के अन्दर उतरे लेकिन उसी दौरान वो बेहोश होने लगे. घटना की सूचना मिलने के तुरंत बाद पुलिस और स्थानीय लोगों की सहायता से मजदूरों को सोनबरसा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने चार मजदूरों को मृत घोषित कर दिया गया. गंभीर रूप से बीमार एक  मजदूर का इलाज चल रहा है. Also Read - बिहार: सुपौल में निर्माणाधीन सेप्टिक टैंक से निकली जहरीली गैस, 4 मजदूरों की मौत

जहरीली गैसों के चलते हुए हादसा  
स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सक कुमार विवेकानन्द ने बताया कि मजदूरों की मौत सेप्टिक टैंक में कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड की अधिकता की वजह से हुई. ऑक्सीजन न  मिल पाने की वजह से दम घुटना मजदूरों के लिए काल बन गया. सहरसा सदर के अनुमंडल अधिकारी शम्भू नाथ झा ने बताया कि मरने वालों की पहचान मनोज कुमार (26 वर्ष), राकेश विश्वास (28 वर्ष), सुजीत कुमार (20 वर्ष) और मुकेश कुमार (22 वर्ष) के रूप में की गई है. पुलिस ने मृतकों के शवों को पोस्ट मॉर्टम के लिए भेज दिया है. Also Read - आगरा में सीवर टैंक की सफाई करते वक्‍त निकली जहरीली गैस, तीन लोगों की मौत