Flood in Gopalganj: बिहार में बाढ़ की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है. राज्य के 10 से अधिक जिलों की छह लाख से अधिक आबादी बाढ़ की चपेट में है. इस बीच गोपालगंज जिले में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ गई है. जिले में गंडक नदी का तटबंध टूट गया है. रिपोर्ट के मुताबिक गुरुवार देर रात देवापुर में तटबंध टूट गया. इस कारण जिले के दो प्रखंडों- माझा और बरौली के 12 से अधिक गांवों में पानी भर गया है. इस तरह अब तक जिले के 45 गांव बाढ़ की चपेट में हैं. Also Read - Bihar Election 2020: लालू-राबड़ी के घर में CM नीतीश ने तेजस्वी से पूछा-10 लाख नौकरी कैसे दोगे

रिपोर्ट के मुताबिक नेपाल के वाल्मीकि नगर बराज से सर्वाधिक साढ़े चार लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने की वजह से गंडक नदी बेकाबू हुई है. कई स्थान पर गंडक नदी खतरे के निशान से काफी ऊपर बह रही है. रिपोर्ट के मुताबिक विश्वंभरपुर में नदी खतरे से करीब दो मीटर ऊपर बह रही है. इलाके में 20 से अधिक जगहों पर रिसाव के कारण बांध के टूटने का खतरा बना हुआ है. इलाके के कई गांवों में बाढ़ का पानी मकानों की पहली मंजिल में घूस गया है. कई जगहों पर घर डूब गए हैं. Also Read - Flood in UP: बिहार, असम के बाद अब यूपी में बाढ़ कहर, 16 जिलों के 644 गांव प्रभावित

इंजीनियरों के मुताबिक गंडक नदी विशम्भरपुर में खतरे के निशान से दो मीटर ऊपर और पतहरा, डुमरिया और मटियारी में एक मीटर ऊपर बह रही है. इस कारण सारण बांध पर भी दबाव बढ़ गया है. Also Read - Bihar Flood: बिहार में बाढ़ से जनजीवन प्रभावित, इन जिलों में हालत खराब