Bihar News: बिहार के पंचायती राज संस्था एवं नगर निकायों के अंतर्गत कार्यरत राज्य के साढ़े तीन लाख शिक्षकों व पुस्तकालयाध्यक्षों का यूनिवर्सल एकाउंट नम्बर होगा और अब उन्हें कर्मचारी भविष्य निधि से जोड़ने के लिए यह खाता खोला जाएगा. शिक्षा विभाग के माध्यमिक शिक्षा निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि यूनिवर्सल एकाउंट नम्बर खोलने के लिए शिक्षकों व पुस्तकालय अध्यक्षों का पूर्ण विवरण दें.Also Read - बिहार के पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने कहा, मोदीजी, 15 दिन के लिए जम्मू-कश्मीर बिहारियों को सौंप दीजिए, फिर देखिए

बता दें कि पंचायती राज संस्था एवं नगर निकायों के अंतर्गत कार्यरत राज्य के साढ़े तीन लाख शिक्षकों व पुस्तकालयाध्यक्षों को 1 सितम्बर 2020 के प्रभाव से ईपीए‌फ स्कीम लागू की गयी है और इस स्कीम को लागू करने के लिए बिहार झारखंड के केन्द्रीय भविष्य निधि आयुक्त ने शिक्षा विभाग से शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों को यूनिवर्सल एकाउंट नम्बर खोलने में विभाग का सहयोग देने का अनुरोध किया है. Also Read - Aryan Khan Drugs Case का बिहार कनेक्शन, मोतिहारी जेल में मुंबई पुलिस-NCB को मिला सुराग, जानिए

माध्यमिक निदेशक ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों से कहा है कि वे शिक्षकों का ब्योरा एक्सल शीट में तैयार करकर उसकी सॉफ्ट एवं हार्ड कॉपी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन द्वारा जिलों में नामित उनके नोडल पदाधिकारियों को 20 सितम्बर तक उपलब्ध कराने को कहा है. 30 सितम्बर तक खाता खोलने की कार्यवाही पूर्ण की जानी है. Also Read - पटना में चर्चित मॉडल मोना राय को बाइक सवार हमलावरों ने गोली मारी, क्‍या मर्डर का है बिहार के टॉप नेताओं से कनेक्‍शन?

माध्यमिक निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने जिलों को भेजे पत्र में स्पष्ट किया है कि जो शिक्षक और पुस्तकालयाध्यक्ष 31 अगस्त 2020 तक प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत थे, उनके लिए ईपीएफ स्कीम से आच्छादन हेतु उनकी नियुक्ति की तिथि 1 सितम्बर 2020 होगी. भविष्य में नियुक्त होने वाले शिक्षकों वपुस्तकालयाध्यक्षों के लिए ईपीएफ स्कीम से आच्छादन हेतु डेट ऑफ ज्वाइनिंग उनकी सेवा में योगदान की तिथि ही होगी.