पटनाः बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार मुख्यमंत्री विशेष सहायता के तहत बाहर फंसे बिहार के लोगों को 1,000 रुपये की दर से सीधे बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से भुगतान की योजना की शुरुआत की. पहले दिन अन्य राज्यों में फंसे 1 लाख 3 हजार 579 बिहार के लोगों के खाते में 10 करोड़ 35 लाख 79 हजार रुपये भेजे गए. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में लागू लॉकडाउन के कारण बिहार के कई लोग अन्य राज्यों में फंसे हुए हैं. Also Read - Coronavirus: धार्मिक स्‍थलों के लिए SOP जारी, घंटी, मूर्ति छूना है प्रतिबंधित, पढ़ें नियम

नीतीश ने मुख्यमंत्री राहत कोष से मुख्यमंत्री विशेष सहायता अंतर्गत लॉकडाउन के कारण अन्य राज्यों में फंसे बिहार के प्रति लोगों को 1,000 रुपये उनके बैंक खाते में भेजने की योजना की शुरुआत माउस क्लिक कर किया. Also Read - विशेषज्ञों का दावा, एचसीक्यू का दोबारा क्लिनिकल ट्रायल शुरू होना सही दिशा में उठाया गया कदम

पहले दिन 10 करोड़ 35 लाख 79 हजार रुपये भेजे गए. इसके लिए अब तक 2 लाख 84 हजार 674 आवेदन प्राप्त हुए हैं. मुख्यमंत्री इन आवेदनों की जांच के बाद अन्य लोगों के खाते में जल्द राशि भेजने का निर्देश अधिकारियों को दिए हैं. Also Read - Coronavirus: केंद्र सरकार ने शॉपिंग मॉल के लिए जारी की नई गाइडलाइंस, जानें नियम

योजना के शुभारंभ के बाद मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को यह सहायता राशि सबको मिले, यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के बाहर दिल्ली एवं अन्य शहरों में लोगों की मदद के लिए कैम्प चलाए जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि दिल्ली में 10 स्थानों पर कैम्प बनाकर लोगों को भोजन एवं फूड पॉकेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं. उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री नीतीश ने लॉकडाउन के कारण बिहार के जो लोग बिहार के बाहर अन्य राज्यों में फंसे हुए हैं, उन्हें प्रति व्यक्ति एक हजार रुपये विशेष सहायता राशि के रूप में मुख्यमंत्री राहत कोष से देने का निर्देश दिया था.