नई दिल्‍ली: बॉलीवुड एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में बिहार सरकार ने आज मंगलवार को सीबीआई जांच करने की सिफारिश कर दी है. यह कदम बिहार सरकार ने सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से कहने के बाद की गई है. वहीं, बॉम्बे हाईकोर्ट में इस मामले में दायर जनहित याचिका पर सुनवाई आज भारी बारिश के कारण स्‍थगित हो गई है. Also Read - Sushant Singh Rajput Death: सीबीआई और एम्स मेडिकल बोर्ड की मंगलवार को बैठक, होगा बड़ा खुलासा!

बिहार के सीएम नीतीश कुमार से लेकर एएनआई से कहा,  डीजीपी ने आज सुबह सुशांत सिंह राजपूत के पिता से बात की और उन्होंने सीबीआई जांच के लिए सहमति दे दी. इसलिए अब हम मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश कर रहे हैं. Also Read - अगस्ता वेस्टलैंड मामला: CBI ने दाखिल किया पूरक आरोपपत्र, राजीव सक्सेना और संदीप त्यागी सहित 11 के लोग शामिल

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक निजी चैनल से बात करते हुए कहा, ‘सुशांत के पिता केके सिंह का कंसेंट मिलते ही, मैंने पुलिस महानिदेशक को इस मामले की कागजी कार्रवाई करने और सीबीआई की अनुशंसा करने के कागजात तैयार करने के निर्देश दिए हैं.’ Also Read - NCB की पूछताछ के आगे टूट गई रिया चक्रवर्ती, ड्रग्स लेने की बात कबूली- इंडस्ट्री के कुछ बड़े नामों का भी किया खुलासा

बिहार सरकार की ओर से सीबीआई जांच की सिफारिश की यह पुष्टि जेडीयू के प्रवक्‍ता संजय सिंह ने की है.

सुशांत के भाई और भाजपा विधायक नीरज कुमार बबलू ने मुख्यमंत्री का आभार जताते हुए कहा कि अब इस मामले में दूध का दूध और पानी हो जाएगा.

वहीं,  बॉम्बे हाईकोर्ट में इस मामले में दायर जनहित याचिका पर सुनवाई आज भारी बारिश के कारण स्‍थगित हो गई है. इस याचिका में सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले को केंद्रीय जांच ब्यूरो में स्थानांतरित करने की मांग की गई है.

बिहार विधानसभा में भी सोमवार को सुषांत आत्महत्या का मामला गूंजा था और करीब सभी दलों ने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की थी. 25 जुलाई को सुशांत के पिता ने पटना में एक मामला दर्ज करवाया था और इसके बाद बिहार पुलिस भी इस मामले की जांच कर रही है.

बता दें 14 जून को सुशांत का शव उनके मुबई स्थित फ्लैट से बरामद किया गया था. इसके बाद मुबई पुलिस जांच शुरू की थी अब तक 50 से ज्‍यादा लोगों के बयान ले चुकी है.

बता दें कि इस मामले में बिहार के डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडे ने कहा, ”उन्होंने एक आईपीएस अधिकारी को जबरन क्‍वारंटाइन दिया. यदि महाराष्ट्र सरकार को अपनी पुलिस पर गर्व है, तो हमें बताएं कि सुशांत एस राजपूत की मृत्यु के 50 दिनों के बाद उन्होंने क्या किया है. मुंबई ने हमारे साथ सभी संचार चैनल बंद कर दिए हैं. यह इंगित करता है कि कुछ गलत है.