Top Recommended Stories

Bihar Hindi News: बिहार से गुजरात लाई जा रही थीं छह नाबालिग बच्चियां, चाइल्ड ट्रैफिकिंग का शक | दो पकड़े गए

Bihar Hindi News: बताया गया कि अवध एक्सप्रेस में कुछ नाबालिगों को संदिग्ध स्थिति में ले जाया जा रहा रहा था. सभी बच्चियां 6 से 10 साल की हैं और डरी-सहमी हालत में मिलीं.

Published: March 15, 2022 8:28 AM IST

By India.com Hindi News Desk | Edited by India.com Hindi News Desk

Child Trafficking

Bihar Hindi News: बिहार के समस्तीपुर से गुजरात के सूरत जाई जा रहीं छह नाबालिग बच्चियों की ट्रेन से बरामदगी का मामला अब और भी ज्यादा पेचीदा हो गया है. दरअसल जीआरपी थाने से इन बालिकाओं को चाइल्ड लाइन के सुपुर्द किया गया था. चाइल्ड लाइन ने सभी बालिकाओं को बाल कल्याण समिति/न्यायपीठ (CWC) के सामने पेश किया. जहां से फैसला सुनाते हुए उन्हें लखनऊ के बाल गृह भेज दिया गया है. साथ ही अब इस मामले में मुकदमा दर्ज कराने की भी तैयारी है. साथ ही जो दो संदिग्ध व्यक्ति इन छह लड़कियों को लेकर सूरत जा रहे थे, उनके खिलाफ भी कार्रवाई के लिए CWC ने जीआरपी को लिखा है. CWC इस पूरे मामले को चाइल्ड ट्रैफिकिंग जैसा ही मानकर जांच कर रही है.

Also Read:

क्या है मामला

बीते शनिवार को चाइल्ड लाइन को सूचना मिली थी कि अवध एक्सप्रेस में कुछ नाबालिगों को संदिग्ध स्थिति में ले जाया जा रहा रहा है. सभी बच्चियां 6 से 10 साल की हैं और यह सभी डरी-सहमी हुई हैं. इस पर चाइल्ड लाइन के निदेशक रत्नेश कुमार ने रात में ही जीआरपी थानाध्यक्ष अनूप कुमार के साथ ट्रेन से बच्चियों को बरामद करा लिया था. सरताज और मोहम्मद अकबर नाम के दोनों व्यक्तियों को हिरासत में भी ले लिया था. पूछताछ में दोनों ने खुद को बिहार के समस्तीपुर जिले का निवासी बताया. एक व्यक्ति ने उनमें से खुद को एक लड़की का पिता बताते हुए कहा था कि सभी को सूरत के एक मदरसे में पढ़ाने के लिए ले जा रहे थे.

बाद में जीआरपी ने इन बच्चियों के परिजनों को भी बुलवाया, जिसके बाद सभी बाराबंकी रेलवे स्टेशन पहुंच गए. फिर चाइल्ड लाइन ने बालिकाओं को बाल कल्याण समिति/न्यायपीठ (CWC) के सामने पेश किया. जहां लड़कियों को ले जा रहे दोनों लोगों और बालिकाओं के बयान अलग-अलग पाए गए. वहीं सूरत में बालिकाओं के साथ कोई व्यस्क महिला ना होने की बात भी पता चली. जिसके बाद CWC ने फैसला सुनाते हुए इस मामले को चाइल्ड ट्रैफिकिंग का मानते हुए उन्हें लखनऊ के बाल गृह भेज दिया. साथ ही अब इस मामले में मुकदमा दर्ज कराने की भी तैयारी है. इसके अलावा दो संदिग्ध इन छह लड़कियों को लेकर सूरत जा रहे थे, उनके खिलाफ भी कार्रवाई के लिए CWC ने जीआरपी को लिखा है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें बिहार समाचार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

By clicking “Accept All Cookies”, you agree to the storing of cookies on your device to enhance site navigation, analyze site usage, and assist in our marketing efforts Cookies Policy.