पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोविड-19 की जांच के लिए शनिवार को अपने नमूने भेजे. नीतीश कुमार ने विधानपरिषद के कार्यवाहक सभापति अवधेश नारायण सिंह के साथ एक आधिकारिक कार्यक्रम में मंच साझा किया था जो कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गए हैं. यह जानकारी अधिकारियों ने दी.Also Read - नीतीश कुमार की मौजूदगी में जदयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए सांसद ललन सिंह

बिहार विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायाण सिंह भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. उन्हें पटना एम्स में इलाज के लिए भर्ती करा दिया गया है. इधर, उनके संपर्क में आने के कारण उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के भी कोरोना जांच के लिए नमूने लिए गए हैं. Also Read - तेजस्वी यादव का दावा, 'नीतीश कुमार ने जाति जनगणना का मुद्दा केंद्र के समक्ष उठाने पर सहमति जताई है'

सभापति के परिजनों के मुताबिक, सिंह को दो-तीन दिनों से तेज बुखार था. शुक्रवार को उन्होंने कोरोना की जांच कराई थी. देर शाम रिपोर्ट आई तो पति-पत्नी दोनों कोरोना पॉजिटिव पाए गए. इसके बाद शनिवार की दोपहर में उन्हें पटना एम्स ले जाया गया. उन्हें कोविड आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है. सूत्रों के मुताबिक, उनके अन्य परिजनों के भी कोरोना जांच के लिए नमूने लिए गए हैं. Also Read - तेजस्वी यादव ने कहा- दूसरी सरकार आए और विधायकों पर गोली चलवा दे तो, इसलिए नीतीश कुमार...

सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री के अलावा मुख्यमंत्री कार्यालय के 15 कर्मचारियों के नमूने भी कोविड-19 जांच के लिए एकत्रित किये गए हैं. सूत्रों ने बताया कि जांच रिपोर्ट रविवार को आने की उम्मीद है.

बता दें कि पिछले सप्ताह ही बिहार में नौ निर्वाचित विधान पार्षदों ने शपथ ली थी. शपथ ग्रहण समारोह में सभापति के अलावा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और विधानसभा अध्यक्ष विजय चौधरी सहित कई लोग मौजूद थे.

भाजपा के एक नेता ने बताया कि उपमुख्यमंत्री मोदी का भी कोरोना जांच के लिए नमूने लिए गए हैं. सूत्रों का दावा है कि चार सचिवों के भी नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं. उस समारोह में भाग लेने वाले सभी लोगों के नमूने लिए जाएंगे.

(इनपुट एजेंसी)