पटना: बिहार में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के नेता भले ही लोकसभा चुनाव में सीट बंटवारे में कोई विवाद नहीं होने का दावा कर रहे हैं, लेकिन यह तय है कि गठबंधन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. इसका सबूत लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के प्रदेश अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस का यह बयान है जिसमें उन्‍होंने कहा है कि उनकी पार्टी लोकसभा चुनाव में सात सीटों से कम पर समझौता नहीं करेगी.

लोजपा नेता और बिहार के मंत्री पशुपति कुमार पारस ने यहां मंगलवार को कहा कि लोजपा किसी भी हालत में सात सीटों से कम पर समझौता नहीं करेगी. उन्होंने कहा, “हम पहले भी सात सीटों पर चुनाव लड़े थे और इस बार भी सात सीटों की मांग करेंगे. पार्टी की लोकप्रियता पहले से काफी बढ़ी है, और इस कारण लोजपा को झारखंड और उत्तर प्रदेश में भी सीटें चाहिए.”

आरजेडी की भूमिहारों और ब्राह्मणों को लुभाने की कोशिश, तेजस्वी यादव ने दिया बड़ा बयान

उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि अभी सीट बंटवारे को लेकर राजग में कहीं कोई चर्चा नहीं हुई है. केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के भाई पारस के इस बयान के बाद बिहार में राजग में सीट बंटवारे को लेकर एकबार फिर सियासी पारा गर्म होने की उम्मीद जताई जा रही है.

एनडीए से हाथ मिलाने पर तेजस्‍वी ने नीतीश कुमार के डीएनए पर उठाए सवाल, कहा चचा तो ‘चीट मिनिस्टर’ हैं

उल्लेखनीय है कि बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीटें हैं. पिछले लोकसभा चुनाव में लोजपा, रालोसपा और भाजपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था, परंतु जद (यू) के राजग में शामिल होने के बाद लोजपा, रालोसपा की सीटें कम होने की आशंका है.