बिहार में फसलों को बर्बाद करने वाली नील गायों की बढ़ती हत्या के बाद केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी पर्यावरण मंत्री पर बिफर पड़ीं हैं। आपको बतादें की मंत्री मेनका गांधी ने पर्यावरण मंत्री पर यह आरोप लगाया है की वह राज्यों को चिट्ठी लिख कर जानवरों को मरने की मंजूरी दें रहें हैं। मेनका ने पर्यावरण मंत्रालय को अड़े हाथ लेते हुए कहा है की यह पहली बार देखने मिल रहा है की पर्यावरण मंत्रालय इतना सक्रिय है।Also Read - Bihar के डिप्‍टी CM ने कहा- भारत-पाक के बीच T20 WC मैच रुकनी चाहिए, BCCI उपाध्‍यक्ष ने कही ये बात

Also Read - Jammu and Kashmir: आतंकवादियों ने कश्मीर में फिर बिहार के तीन लोगों को मारी गोली, दो की मौत एक की हालत गंभीर

मेनका गांधी जानवरों मारने का आरोप लगते हुए कहती हैं की सभी राज्यों को कहा जा रहा है कि आप बताएं कौन-कौन से जानवर को आप मारना चाहते हैं। मंत्रियों की सुझाव के बारे में मेनिका लिखती हैं की बंगाल में हाथियों को, गोवा में मोर को, हिमाचल प्रदेश में बंदरों को, राजस्थान में नील गायों को मारा जाए। यह भी पढ़ें: बिहार के टॉपर्स की खुली पोल… अब बोर्ड लेगा इंटरव्यू, देखें वीडियो Also Read - पटना में चर्चित मॉडल मोना राय को बाइक सवार हमलावरों ने गोली मारी, क्‍या मर्डर का है बिहार के टॉप नेताओं से कनेक्‍शन?

आपको बतादें की मेनिका गांधी ने यह बयान बिहार में 250 से भी ज्यादा नील गायों की हत्या के बाद दिया है। मेनिका गांधी आगे कहती हैं की RTI के जरिए पता लगाया है की किसी राज्य में जानवरों को मारने की मंजूरी नहीं मांगी है बल्कि यह सब पर्यावरण मंत्री खुद सक्रिय होकर कर रहें हैं। वहीँ दूसरी तरफ मेनिका गांधी के इस बयान पर पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। मेनका गांधी नील गायों को मारने के लिए पर्यावरण मंत्री और राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जिम्मेदार मानती हैं। मेनका गांधी इस तरह से जानवरों की हत्या को एक बेहद शर्मनाक घटना मान रहीं हैं।