पटना: कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर शुक्रवार को राजधानी पटना समेत विभिन्न इलाकों में हजारों श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई. इस मौके पर मंदिरों में भी पूजा-अर्चना करने वालों का तांता लगा हुआ है. सारण जिले के सोनपुर में गंगा-गंडक संगम पर लाखों श्रद्धालु इस पावन मौके पर आस्था की डुबकी लगाकर हरिहरनाथ मंदिर में भगवान हरिहर पर जलाभिषेक कर रहे हैं. Also Read - Guru Nanak Jayanti 2018: जब अमीर सेठ की रोटी से खून और मजदूर की बासी रोटी से निकली दूध की धार !

Also Read - Kartik Purnima 2018: जानिए कार्तिक पूर्णिमा का महत्‍व, मुहूर्त और मान्‍यताओं के बारे में

सारे पाप धुल जाते हैं

मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा नदी के जल से स्नान कने से जीवन के सारे पाप धुल जाते हैं तथा स्वास्थ्य एवं समृद्धि में वृद्धि होती है. पटना के गंगा नदी के कंगन घाट, कलेक्ट्रिएट घाट, दानापुर घाट, महेन्द्रूघाट सहित सभी घाटों पर सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ जुटी हुई है. कई घाटों पर तो श्रद्धालु रात को ही पहुंच गए थे. पटना के अलावा राज्य के अन्य क्षेत्रों से आए लोग इन घाटों पर तो गंगा में डुबकी लगा रहे हैं और दान कर रहे हैं. पंडित जय कुमार पाठक के अनुसार, “कार्तिक पूणिमा के दिन स्नान-दान का विशेष महत्व है.

मोक्ष की कामना

इस साल कार्तिक पूर्णिमा पर त्रिपुष्कर योग का संयोग बना है. मान्यता है कि इस दिन हाथ में कुश (एक प्रकार का घास) लेकर गंगा स्नान करने से सभी पाप कट जाते हैं.” उन्होंने कहा कि इस दिन जो भी दान किया किया जाता है उसका कई गुना पुण्य प्राप्त होता है. इस दिन अन्न, धन और वस्त्र दान का विशेष महत्व है. कार्तिक पूर्णिमा को लेकर हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेला क्षेत्र के समीप गंगा-गंडक संगम कोनहारा घाट पर भी लाखों लोग स्नान के लिए जुटे हुए हैं. लोग संगम में डुबकी लगाकर मोक्ष की कामना कर रहे हैं.

Kartik Purnima 2018: जानिए कार्तिक पूर्णिमा का महत्‍व, मुहूर्त और मान्‍यताओं के बारे में

इस दौरान हरिहरनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है. गंगा के अलावा राज्य के अन्य क्षेत्रों में कोसी, गंडक सहित अन्य नदियों के घाटों पर भी लोग स्नान कर स्वास्थ्य एवं समृद्धि की कामना कर रहे हैं. कार्तिक पूर्णिमा केा लेकर पटना के गंगा तटों पर सुरक्षा के भी पुख्ता प्रबंध किए गए है. मंदिरों में भी अन्य दिनों की अपेक्षा पूजा-अर्चना करने वालों की संख्या में वृद्धि देखी जा रही है. (इनपुट एजेंसी)

सीपी जोशी के पीएम की जाति वाले बयान से बैकफुट पर कांग्रेस, डैमेज कंट्रोल के लिए आगे आए राहुल गांधी