Bihar News: बिहार में गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र के जदयू विधायक नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ गोपाल मंडल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसके बाद वे एक बार फिर विवादों में घिर गये हैं. वैसे को गोपाल मंडल अपने बेतुके बयान के लिए भी मशहूर हैं और विवादों में बने रहते हैं. इस नए वीडियो में नीतीश कुमार के ये विधायक अपने ही सरकार के निर्देशों की धज्जियां उड़ाते हुए अपने समर्थकों के साथ सोमवार को कांवर यात्रा पर निकले और भागलपुर के बूढ़ानाथ मंदिर पहुंच गए. मंदिर के गेट का ताला बंद मिलने पर उन्होंने पुजारी को धमकी दे डाली और कहा कि लाठी पार्टी के विधायक हैं गर्दा उड़ा देंगे. उनका ये वीडियो वायरल हो रहा है.Also Read - Viral Video: शराब के नशे में धुत टीचर सरकारी स्‍कूल में फर्स पर लेटे हुए यूं आया नजर

बता दें कि बिहार सरकार ने कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए श्रावण मास में भी मंदिर को आम लोगों के लिए बंद रखने का निर्देश दिया है. लेकिन विधायक गोपाल मंडल सरकारी निर्देशों को ताक पर रखकर भागलपुर के बूढानाथ मंदिर पहुंचे और गेट नहीं खोलने पर मंदिर प्रशासन के साथ दबंगई भी की. मंदिर परिसर में सोमवार को काफी देर तक विधायक का हाई वोल्टेज ड्रामा चला. Also Read - Maa Ki Mamta: बच्चे पर गिरने लगी दीवार, तभी मां ने कर दिया दिखाया कुछ ऐसा दुनिया कर रही तारीफ | देखिए ये Video

Also Read - जब सिंगर बन गए Kiren Rijiju, गाना गया तो बांध दिया समा | Viral हो रहा ये Video

विधायक गोपाल मंडल इस दौरान आपा खो बैठे और मंदिर गेट खोलवाने दबंगई पर उतर गये. विधायक ने गुस्से में गेट को जोर-जोर से पटकना भी शुरू कर दिया. मंदिर के मैनेजर को कहा कि वो इस जल को उनके सिर पर डाल देंगे. विधायक ने अपना तेवर दिखाते हुए कहा कि हम लाठी पार्टी के विधायक हैं, जब खुलेगा मंदिर तो गर्दा उड़ा देंगे.

इतना ही नहीं, विधायक के समर्थक भी गाली गलौज करके मंदिर के स्टाफ को धमकी देते रहे. लेकिन मुख्यमंत्री के आदेश का हवाला देकर गेट नहीं खोला गया और विधायक को बूढानाथ मंदिर से बिना पूजा किये वापस लौटना पड़ा. बाद में उन्होंने पास के एक दूसरे मंदिर में जाकर पूजा की.

पूजा के बाद विधायक गोपाल मंडल ने कहा कि हमने भगवान से मांगा कि हम पूरे देश पर शासन करें और विश्व पर राजनीति करें. खुद की प्रशंसा करते हुए कहा कि जितना टैलेंट उनमें है, उतना किसी में नहीं. 19 बार चुनाव लड़ चुके हैं. राजनीतिक गुणाभाग की जानकारी उन्हें ज्यादा है.