Bihar News: बंगाल चुनाव से पहले बिहार की राजनीति (Bihar Politics) में बड़ा खेला हो गया है. जदयू (JDU) में रालोसपा (RLSP) के विलय से पहले ही बड़ी बात हो गई है. रालोसपा ने अपने पार्टी चीफ को ही बाहर निकाल दिया है और उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) को छोड़कर पार्टी के सभी नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi yadav)के खेमे राजद (RJD)में चले गए हैं. इस तरह से कुशवाहा और जदयू को बंगाल चुनाव से पहले तेजस्वी यादव ने बड़ा झटका दिया है.Also Read - बिहार : मीसा भारती लालू यादव के साथ राज्यसभा का पर्चा दाखिल करने पहुंची विधानसभा, भगदड़ जैसी स्थिति बनी

बता दें कि शुक्रवार को आरएलएसपी के तमाम दिग्गजों ने उपेंद्र कुशवाहा का दामन छोड़ दिया और सभी नेताओं ने RJD का दामन थाम लिया है. शुक्रवार को उपेंद्र कुशवाहा को ही पार्टी से बेदखल कर आरएलएसपी, आरजेडी में शामिल हो गई है. रालोसपा के 35 छोटे- बड़े चेहरे ने तेजस्वी की मौजूदगी में आरजेडी की सदस्यता ग्रहण कर ली है. इस मौके पर तो तेजस्वी यादव ने कह दिया कि RLSP में अब सिर्फ उपेंद्र कुशवाहा ही बचे हैं. Also Read - बेगूसराय में कार्यक्रम के दौरान टूटा मंच, बच गए उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रशाद, रुदल राय का टूटा पैर

उपेंद्र कुशवाहा जदयू में करने वाले थे पार्टी का विलय Also Read - बिहार: कार चेकिंग के दौरान शराब तस्करों ने ASI को कुचला, पुलिसकर्मी की हुई मौत, ग्रामीणों में शराब लूटने की मची होड़

पिछले कई दिनों से कयासबाजी जारी थी कि रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा अपनी पार्टी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी का विलय जनता दल यूनाइटेड में करने जा रहे हैं.नीतीश कुमार के लव – कुश समीकरण में फिट होने के लिए उपेंद्र कुशवाहा जेडीयू में अपनी पार्टी का विलय करने के लिए लगभग तैयार भी हो गए थे, लेकिन उससे पहले ही राजद ने उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी के साथ बड़ा खेला कर दिया है.

तेजस्वी ने कसा तंज-अब तो कुशवाहा जी अकेले रह गये
रालोसपा के संस्थापक रहे नेता के साथ पार्टी के प्रमुख नेताओं और पदाधिकारियों ने पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा को ही निष्कासित कर शुक्रवार को पार्टी का विलय राजद में कर दिया. रालोसपा के सभी बागी नेताओं को सदस्यता दिलाने के बाद तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार की राजनीति में यह एक बड़ा बदलाव आया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि उपेंद्र कुशवाहा जी अब अकेले रह गये है. उनकी पार्टी अब राजद का हिस्सा बन चुकी है.