गया. बिहार के गया जिले के बुनियाद्गंज थाना में एक 16 वर्षीय किशोरी की नृशंस तरीके से हत्या कर दी गई है. उसका चेहरा भी जला दिया गया है. इस क्रूरता के खिलाफ गुरुवार को हजारों महिलाओं ने प्रदर्शन किया. किशोरी के परिजन जहां इस मामले को सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या की बात कह रहे हैं, वहीं पुलिस इसे इज्जत के कारण हत्या (ऑनर किलिंग) का मामला बताते हुए मृतका के पिता और मां सहित तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. पुलिस के अनुसार, पटवाटोली के बुनकर समाज से आने वाली एक किशोरी 28 दिसंबर से लापता थी. परिजनों ने इसकी शिकायत बुनियादगंज थाना को दी थी. इसी बीच छह जनवरी को क्षत-विक्षत हालत में किशोरी का शव बरामद किया गया. परिजनों को आरोप है कि छात्रा को अगवा कर उसके साथ दुष्कर्म कर हत्या की गई और फिर शव को फेंक दिया गया. Also Read - India Railway Chhath Puja Special Trains: छठ पर जाना चाहते हैं बिहार, झारखंड तो देखें ये लिस्ट, रेलवे ने चलाई स्पेशल ट्रेन

गया के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजीव मिश्रा ने गुरुवार को बताया कि गुमशुदगी की प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस ने परिजनों से बयान लिया था, जिसमें परिजनों के बयान अलग-अलग थे. उन्होंने कहा कि किशोरी की बहन ने बताया था कि वह 31 दिसंबर को लौटी थी और फिर पिताजी के एक दोस्त के घर चली गई थी. उन्होंने बताया कि इसी आधार पर मृतका के पिताजी, उनके दोस्त और उसकी मां को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. उन्होंने कहा कि पुलिस पूरे मामले की सभी कोणों से अनुसंधान कर रही है. प्रथम दृष्टया मामला इज्जत के खातिर हत्या का प्रतीत हो रहा है. उन्होंने शव पर तेजाब डालने की घटना से इनकार किया है. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: बिहार में पीएम मोदी की आज 3 रैलियां, नीतीश भी होंगे साथ

एसएसपी राजीव मिश्रा के मुताबिक, हत्या के पूर्व दुष्कर्म की पुष्टि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हो पाएगी. इधर, इस घटना के बाद गया शहर में तनाव का माहौल है. बुधवार की शाम सैकड़ों लोग अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर सड़कों पर उतरे थे और कैंडल मार्च किया था. अगले दिन हजारों महिलाओं ने हाथ में तख्तियां लेकर प्रदर्शन किया. Also Read - मिसाल: दशरथ मांझी, लौंगी भुइयां के गया में ग्रामीणों ने श्रमदान, चंदा इकट्ठा कर बना डाली पुलिया