Bihar Politics: बिहार में नीतीश कुमार की सरकार की तरफ से सोशल मीडिया को लेकर एक नया फरमान जारी हुआ है, जिसके बाद अब सोशल मीडिया पर मंत्री, सांसद, विधायक, अधिकारी और कर्मचारी के साथ ही किसी अन्य व्यक्ति के खिलाफ अनाप-शनाप टिप्पणी पर अब कानूनी कार्रवाई होगी. इसे लेकर लोगों ने तरह-तरह की टीका-टिपण्णी की है. इसे लेकर काफी नाराजगी देखी जा रही है. वहीं बढ़ गया  राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी जारी है.Also Read - UP Election 2022: अपर्णा यादव पर चढ़ा भगवा रंग | BJP ने दल-बदल का खेला मास्टर स्ट्रोक

इस फरमान पर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने भी नीतीश सरकार पर हमला बोला है. तेजप्रताप ने इस फरमान पर ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने अपने चिरपरिचित अंदाज में ट्वीट कर पूछा है, ‘पलटूराम को ‘पलटूराम’ कहना भी अपराध के श्रेणी में आएगा..?’ Also Read - Bihar Politics: बिहार में फिर होगी उलट-फेर? मुकेश सहनी ने दिए बड़े संकेत, तेजस्वी को बताया-छोटा भाई

जदयू नेता निखिल मंडल ने कहा-पता नहीं जी, कौन-सा नशा करता है… Also Read - UP Assembly Election 2022: भाजपा से मिली निराशा, जदयू ने कहा-अब यूपी में हम अपने दम पर लड़ेंगे चुनाव

उनके इस ट्वीट पर जेडीयू नेता निखिल मंडल ने भी रिट्वीट किया है और लिखा है-‘पता नहीं जी कौन सा नशा करता है…?’ आपको बता दें कि यह गाना इन दिनों काफी वायरल हो रहा है और लोग इसे पसंद कर रहे हैं.

बता दें कि 2015 में राजद के साथ मिलकर चुनाव लड़ने वाले नीतीश कुमार ने सरकार बनाने के कुछ ही साल बाद महागठबंधन से अपनी राह अलग कर ली थी और इसके बाद से लालू यादव के दोनों बेटे और उनकी पार्टी राजद के नेता नीतीश कुमार के लिए ‘पलटूराम’ जैसे शब्द का इस्तेमाल करते रहते हैं.

बिहार में जारी फरमान पर क्या कहता है कानून?
बिहार में जारी किए गए इस फरमान के बाद अब अगर सोशल मीडिया पर मंत्री, सांसद, विधायक, अधिकारी और कर्मचारी के साथ किसी अन्य व्यक्ति के खिलाफ अनाप-शनाप टिप्पणी करने पर कानूनी कार्रवाई होगी. प्रतिष्ठा हनन या छवि धूमिल करने के आरोप में आईटी एक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज होगा और जांच की जाएगी.