पटना: बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण से रविवार को आठवीं मौत हुई वहीं पिछले 24 घंटे में राज्य में संक्रमण के 106 नए मामले सामने आए. राज्य में अभी तक कुल 1,284 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. अधिकारियों ने बताया कि 24 घंटे में आए कुल 106 नए मामलों में से सबसे ज्यादा 57 मामले राजधानी पटना में आए हैं. प्रांतीय राजधानी में अभी तक राज्य में सबसे ज्यादा 163 मामलों की पुष्टि हुई है जबकि 125 मामलों के साथ मुंगेर दूसरे स्थान पर है. Also Read - यूपी में 8 जून से खोले जाएंगे धार्मिक स्थल, होटल, रेस्तरां और शॉपिंग मॉल; जुलाई में खुलेंगे स्कूल

मुंबई से बिहार पहुंचते ही बीमार पड़ने वाले 55 वर्षीय प्रवासी श्रमिक की नमूने लिए जाने से पहले ही मौत हो गई और बाद में उसके कोविड-19 से संक्रमित होने की पुष्टि हुई. इसके साथ ही राज्य में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या आठ हो गई है. Also Read - आर्थिक गतिविधियों को बंद करने से पहले रूपरेखा तैयार करके समीक्षा करनी चाहिए थी : यामाहा

प्रधान सचिव, स्वास्थ्य संजय कुमार ने बताया कि प्रवासी श्रमिक मधुमेह की बीमारी से पीड़ित था और उसकी मौत 15 मई की सुबह हुई. श्वसन संबंधी समस्या के बाद उसे खगड़िया जिले के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गई. Also Read - Mann ki Baat Today: कोरोना वायरस से गरीब एवं श्रमिक परिवार सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं: पीएम मोदी

कुमार ने कहा, ‘‘उसकी मौत के तुरंत बाद उसकी और उसकी पत्नी के नमूने लिए गए और दोनों में शनिवार को संक्रमण की पुष्टि हुई. रिकॉर्ड में उसकी मौत बिहार में कोविड-19 से आठवीं मौत के रूप में हुई है.’’ व्यक्ति ‘श्रमिक स्पेशल’ रेलगाड़ी से 13 मई को मुंबई से अपनी पत्नी और पोते के साथ सहरसा लौटा था. इसके बाद वे बस से खगड़िया पहुंचे.

पटना जिला प्रशासन की ओर से जारी बयान के मुताबिक, रविवार को 106 नए मामलों में से सबसे अधिक 57 मामले पटना में सामने आए हैं, जिनमें 18 महिलाएं शामिल हैं. बयान के मुताबिक, सामने आए अधिकतर मामले दिल्ली और गुजरात से लौटे प्रवासी मजदूरों के हैं जोकि पृथक-वास केंद्रों में रह रहे हैं. इस संक्रामक रोग से अब तक 457 लोग स्वस्थ हो चुके हैं.

दिल्ली, गुजरात तथा महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों से लौटे प्रवासियों में से 504 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. राज्य के सात केंद्रों में अभी तक कोविड-19 के 45,790 नमूनों की जांच की गई है.