नई दिल्ली: बिहार में महिलाओं और बच्चियों के खिलाफ अपराध रूकने का नाम ही नहीं ले रहा है. ताजा मामला स्कूल की बच्ची के यौन शोषण से जुड़ा है. पुलिस ने आरोपी स्कूल के प्रिंसिपल और क्लर्क को गिरफ्तार कर लिया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पटना के नजदीक फुलवारी शरीफ में पांचवी की क्लास की 12 साल की छात्रा का लगातार 9 महीने तक रेप किया. इस दौरान वह गर्भवती हो गई. पुलिस गुरुवार को पीड़ित छात्रा का मेडिकल टेस्ट कराएगी. पटना के फुलवारीशरीफ थाना क्षेत्र स्थित एक निजी स्कूल की छात्रा का यौन शोषण किए जाने के मामले में बुधवार को पुलिस ने प्रधानाचार्य और एक शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया.

फुलवारीशरीफ थाना अध्यक्ष मोहम्मद कैसर आलम ने बताया कि गिरफ्तार लोगों में स्कूल प्रधानाचार्य अरविंद कुमार उर्फ राज सिंघानिया और शिक्षक अभिषेक शामिल हैं. उन्होंने बताया कि इन लोगों पर आरोप है कि वे पांचवीं कक्षा की छात्रा का पिछले नौ महीने से रेप कर रहे थे. कैसर ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों को अगली कार्रवाई के लिए महिला थाना के हवाले कर दिया गया है.

इस तरह के मामलों में सजा होने के बावजूद अपराध रूकने का नाम नहीं ले रहा है. मध्यप्रदेश के सतना जिले की एक अदालत ने चार वर्षीय बच्ची के साथ बलात्कार करने के मामले में 27 वर्षीय सरकारी गेस्ट टीचर को मौत की सजा सुनाई. अदालत ने शिक्षक के इस अपराध को विरल से विरलतम की श्रेणी वाला माना था. बलात्कार की घटना के मात्र 81वें दिन में यह फैसला आया. पिछले 79 दिनों से यह पीड़ित बच्ची दिल्ली के एम्स में भर्ती है, जहां उसकी हालत अब भी खराब है.

इस साल 28 फरवरी से अब तक मध्यप्रदेश में नाबालिग बच्चों के साथ यौनशोषण करने के 13 मामलों में 14 लोगों को मृत्युदंड की सजा सुना दी गई है. हालांकि, इनमें से किसी को भी अब तक फांसी के तख्ते पर नहीं लटकाया गया है, क्योंकि उच्च न्यायालयों में उनके मामले विचाराधीन हैं. जिन 13 मामलों में मृत्युदंड की सजा सुनाई गई है उनमें 12 मामले नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म करने का है जबकि एक मामला एक लड़के के साथ अप्राकृतिक कुकर्म करने का है.