गया: बिहार के गया जिले के एक स्कूल और मेडिटेशनन सेंटर के संचालक व भिक्षु को बच्चों के साथ दुराचार और अनैतिक कार्य करने के आरोप में बुधवार रात को गिरफ्तार किया गया. पुलिस के अनुसार, बोधगया थाना क्षेत्र के मस्तीपुर स्थित प्रजना ज्योति बुद्धिस्ट नोविस स्कूल एंड मेडिटेशन सेंटर के बच्चों ने पढ़ाने के नाम पर भिक्षु भंते सुजाय संघप्रिय पर दुराचार, अनैतिक कार्य, मारपीट और भोजन नहीं दिए जाने का आरोप लगाया. Also Read - Shocking video of buddhist child monk being beaten in temple | मासूम बौद्ध भिक्षु को छोटी सी गलती के लिए मार-मारकर कर दिया अधमरा, वीडियो हुआ वायरल

बिहार के बालिका गृह कांड की ग्राउंड रिपोर्ट: बच्चियों से रोजाना होता था रेप, गर्भपात तक के लिए हुईं मजबूर

गया के पुलिस अधीक्षक (नगर) अनिल कुमार ने गुरुवार को आईएएनएस से कहा, “संस्था में नाबालिग बच्चों के साथ दुराचार, यौनाचार किए जाने का मामला संज्ञान में आते ही प्रभारी भिक्षु को गिरफ्तार कर लिया गया है. संस्था के करीब 15 नाबालिग बच्चों के बयान के आधार पर बोधगया में पॉक्सो एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है. पूरे मामले की छानबीन की जा रही है.’

ब्लॉगः हमारा खून क्यों नहीं खौलता मुजफ्फरपुर शेल्टर होम की बच्चियों के कुचले जाने पर

इस केंद्र के सभी बच्चों को एक अन्य आश्रम में रखा गया है. पीड़ित बच्चों में अधिकांश बच्चे असम के रहने वाले हैं, जिन्हें शिक्षा-दीक्षा के लिए यहां भेजा गया था. पीड़ित बच्चों के अभिभावकों के बुधवार को यहां पहुंचने के बाद इस मामले का खुलासा हुआ. पुलिस ने बताया कि घटना की जांच की जा रही है. आरोपी बौद्ध भिक्षु से पूछताछ की जा रही है. बच्चों से भी घटना के बारे में जानकारी ली जा रही है.