नई दिल्ली: बिहार राजनीति के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद का आज 74 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. उन्होंने दिल्ली के एम्स में आखिरी सांस ली. बिहार की राजनीति में डॉ. रघुवंश प्रसाद (Raghuvansh Prasad Singh) का एक बड़ा कद था और वे राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव के काफी करीबी लोगों में से एक थे. Also Read - Sushant Viscera Report: सुशांत मामले में गहरा रहा रहस्य, 'विसरा' को लेकर हुआ यह बड़ा खुलासा- मुंबई पुलिस...

पूर्व केंद्रीय मंत्री को बीमारी के चलते कुछ दिन पहले ही दिल्ली एम्स लाया गया था. हाल ही में उन्होंने अस्पताल से ही पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद यादव को अपना इस्तीफा सौपा था और पार्टी प्रमुख ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया था. Also Read - एम्‍स में पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद की हालत बिगड़ी, वेंटिलेटर पर रखेे गए

एम्स में इलाज के दौरान रघुवंश प्रसाद सिंह के साथ रहे केदार यादव ने फोन पर बताया कि सिंह का सुबह करीब 11 बजे सांस लेने में कठिनाई और अन्य जटिलताओं के कारण निधन हो गया. यादव ने बताया कि सिंह के परिवार में दो पुत्र और एक पुत्री हैं. सिंह की पत्नी का पहले ही निधन हो चुका है. उन्होंने कहा कि सिंह (74) का पार्थिव शरीर अंतिम संस्कार के लिए पटना लाया जाएगा. Also Read - लालू की चिट्ठी से भी नहीं माने रघुवंश प्रसाद! राजद छोड़ने के बाद नीतीश के सामने रखीं ये मांगे

एम्स में भर्ती कराए जाने के बाद उनकी तबियत और अधिक बिगड़ने पर उन्हें वेंटिलेटर के सपोर्ट पर रखा गया था. बता दें कि आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि मैंने आपसे परसो ही कहा था कि आप कहीं नहीं जा रहे.

रघुवंश प्रसाद सिंह कई बार लालू के लिए संकट मोचक के लिए संकट मोचक की तरह काम करते थे. वे बिहार की राजनीति में 1977 से सक्रिय रहे हैं और इस दौरान वे चार बार सांसद भी चुने गए. इस बीच कई ऐसी खबरे भी सामने आईं थी कि वे पार्टी से पिछले कुछ दिनों से नाराज चल रहे थे. आपको बता दें कि 18 जून को कोरोना वायरस से भी संक्रमित पाए गए थे.