Caste Census News: बिहार में राज्य सरकार द्वारा जाति आधारित जनगणना (Caste Census) कराने के विपक्ष की मांग पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा कि इस संबंध में सर्वदलीय बैठक बुलाई जाएगी. सीएम ने भरोसा दिलाया कि बैठक में सबकी सहमति के आधार पर इस बारे में फैसला लिया जाएगा. ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम के बाद पत्रकारों ने जातीय जनगणना पर सर्वदलीय बैठक के संबंध में सवाल किया, जिसपर नीतीश ने कहा, ‘हमलोग इसे करना चाहते हैं, हमने आपस में बात कर ली है. सभी से बात होने के बाद सर्वदलीय बैठक बुलाई जायेगी.’ उन्होंने कहा, ‘सैद्धांतिक तौर पर हम पहले ही से जातीय जनगणना के पक्ष में हैं. इसलिए सर्वदलीय बैठक करना चाहते हैं ताकि इस संबंध में सबकी समझ स्पष्ट हो.’Also Read - चिराग पासवान ने 'जहरीली शराब' को लेकर राज्यपाल को लिखी चिट्ठी, बिहार में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की

नीतीश ने कहा, ‘हम जनगणना (जातीय) किस तरह करवाएंगे, इसपर सबकी समान राय होनी चाहिए. इस संबंध में पूरी तैयारी की जा रही है. इसपर सबकी राय बनने के बाद इसे अंतिम रूप दिया जाएगा और फिर सर्वदलीय बैठक में जो राय बनेगी उसके आधार पर फैसला होगा और सरकार उसका ऐलान करेगी.’ उन्होंने कहा, ‘हम जातीय जनगणना के पक्ष में हैं. इससे सबको लाभ होगा। हम इसे विस्तृत तरीके से कराएंगे ताकि कोई ना छूटे.’ Also Read - Bihar में बढ़ाई गई कोरोना पाबंदियां, 6 फरवरी तक लागू रहेंगे सभी मौजूदा प्रतिबंध; जानें क्या बोले नीतीश कुमार

राज्य में शराबबंदी के बावजूद शराब की खाली बोतलें मिलने के संबंध में सवाल करने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है और रिपोर्ट आने पर ही यह स्पष्ट होगा. हालांकि उन्होंने आशंका जताई कि यह सरकार को बदनाम करने का प्रयास भी हो सकता है. मीडिया पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि बिहार में होने वाले अच्छे कार्यों की खबर दिल्ली के अंग्रेजी अखबारों में नहीं छपती है, लेकिन ऐसी नकारात्मक घटनाओं की खबर प्रमुखता से छपती हैं. Also Read - Bihar Liquor News: बिहार में शराबबंदी कानून में ढील की तैयारी में नीतीश सरकार! पहली बार शराब के साथ पकड़े गए तो सिर्फ...

उन्होंने कहा, ‘हमें सबकुछ समझ आता है, लेकिन हम कुछ नहीं कहते हैं. लेकिन समझते हैं कि कुछ तो है.’ राज्य में उर्वरक की किल्लत पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कमी जरूर है और इस संबंध में राज्य के कृशि मंत्री ने केन्द्र सरकार से बात की है और उन्हें औपचारिक पत्र भी भेजा गया है. उन्होंने कहा, ‘हमें आश्वासन मिला है कि सात दिनों के भीतर उर्वरक की पर्याप्त खेप मिल जाएगी.’ कोरोना वायरस के नये स्वरूप ओमिक्रोन के संबंध में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि सभावित तीसरी लहर की आशंका को लेकर राज्य सरकार पूरी तरह सजग और तैयार है, हालांकि बिहार में अभी तक ओमिक्रोन का कोई मामला सामने नहीं आया है.

(इनपुट: भाषा)