नई दिल्ली: भाजपा और लोक जनशक्ती पार्टी के बीच सीटों के बटवारे में तनातनी के बाद लोजपा ने बिहार विधानसभा चुनाव में अकेले जाने का फैसला किया है. लोजपा ने भले ही चुनावी मैदान में अकेले उतरने का फैसला किया है लेकिन इस बीच चिराग पासवान ने पीएम मोदी को लेकर एक बड़ी बात कही है. उन्होंने कहा कि मुझे आखिर क्यों नहीं पीएम मोदी का सम्मान करना चाहिए, वहीं एक ऐसे अकेलेल शख्स थे जिन्होंने मेरा साथ देने की बात कही जब मेरे पिता अस्पताल मे एडमिट थे. Also Read - भाजपा के 'चाणक्य' गृहमंत्री अमित शाह को पीएम मोदी ने दी जन्मदिन की बधाई, कही ये बात

उन्होंने इससे दो दिन पहले भी कहा था कि सीएम और दूसरी राजनीतिक पार्टियां इस बात से परेशान थीं कि कही हम लोग पीएम मोदी की तस्वीर का फायदा न उठा लें. कहीं हम लोग अपने चुनावी कैंपेन में मोदी जी की फोटो न लगा लें तो मैं सभी को बता दूं कि मुझे पीएम नरेंद्र मोदी जी की तस्वीर लगाने की जरूरत नहीं क्योंकि मैं उनका भक्त हनुमान हूं और वे मेरे दिल में बसते हैं. Also Read - नवरात्रि 2020 पर बंगाल के लोगों से आज जुड़ेंगे PM मोदी, 'पुजोर शुभेच्छा' के जरिए जनता को देंगे खास संदेश

उधर लोजपा के गठबंधन से अलग होने पर गृहमंत्री अमित शाह ने एक टीवी न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू पर कई बातें कहीं. अमित शाह ने कहा कि NDA में LJP को बनाए रखने के लिए पर्याप्त संख्या में सीट ऑफर की गई थी. चिराग पासवान से कई बार बात हुई पर वे माने नहीं और लोजपा NDA गठबंधन से अलग हो गई. एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि अलग होने का फैसला उनका था, हमारा नहीं. लेकिन अब एनडीए में JDU, BJP, VIP और हम का मजबूत गठबंधन है. हम दो-तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाएंगे.

इससे पहले लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने स्पष्ट किया था कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जदयू से गठबंधन तोडने के निर्णय का बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर राजग में सीटों की साझेदारी से कोई संबंध नहीं है तथा मुख्यमंत्री ने महादलित का गठन कर दलित समुदाय को नुकसान पहुंचाया है.

चिराग ने साक्षात्कार के दौरान बताया कि दलितों के बीच से महादलित का गठन कर नीतीश ने इस समुदाय के बीच फूट डालने का काम किया. उन्होंने कहा कि इसका उनके पिता और लोजपा के संस्थापक रामविलास पासवान हमेशा विरोध करते रहे.