बिहार के मुजफ्फरपुर में 9 बच्चों को कुचलकर मार देने की घटना के मद्देनजर सीएम नीतीश कुमार इस बार होली नहीं मनाएंगे. इसके अलावा आरजेडी नेता मनीभूषण निषाद की मौत की वजह से भी उन्होंने होली नहीं मनाने का फैसला किया है. इस घटना का प्रमुख आरोपी बीजेपी नेता मनोज बैठा अब तक फरार है. पुलिस ने उसके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और बीजेपी ने भी उसे पार्टी से निकाल दिया है. बताया जा रहा है कि वह नेपाल बॉर्डर के पास कहीं छिपा हुआ है.

ये हादसा 24 फरवरी को जिले के मीनापुर प्रखंड के धर्मपुर में हुआ. यहां के एक सरकारी स्कूल से छुट्टी के बाद निकलते हुए बच्चों को अनियंत्रित बोलेरो ने रौंद दिया, जिसमें नौ बच्चों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई और 20 बच्चे घायल हो गए. इसमें से चार की स्थिति अभी भी गंभीर बतायी जा रही है. ये घटना दोपहर बाद हुई. हादसा मुजफ्फरपुर के एनएच पर अहियापुर के समीप हुआ. झपहां स्थित स्कूल की एक बजे छुट्टी हुई थी और बच्चे घर की ओर जा रहे थे कि अनियंत्रित बोलेरो ने उन्हें रौंद दिया.

मुजफ्फरपुर हिट एंड रनः तेजस्वी ने पूछा- कहां गई नीतीश की अंतरात्मा?

मुजफ्फरपुर–शिवहर मार्ग पर तेज गति से आ रही बोलेरो मासूम बच्चों को कुचलती चली गई. जब तक कोई कुछ समझ पाता कई बच्चे इसकी चपेट में आ गए. बोलेरो चालक का भी गाड़ी पर नियंत्रण नहीं रहा. इससे बोलेरो भी पलट गई. इसमें सवार कई लोग भी घायल हो गए. बच्चों को जब तक एसकेएमसीएच ले जाया जाता तब तक नौ ने दम तोड़ दिया. घटनास्थल से लेकर एसकेएमसीएच तक कोहराम मच गया है. घटना के बाद अफरातफरी मच गई. सूचना मिलते ही आसपास के लोग मौके की ओर दौड़े और घायल बच्चों को अस्पताल पहुंचाया.

तेजस्वी का नीतीश पर हमला

इस हादसे में नौ बच्चों की मौत को लेकर बिहार की राजनीति चरम पर है. विपक्षी दलों ने नीतीश को निशाने पर लिया है. विपक्ष के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इस घटना को लेकर अब तक न तो सीएम नीतीश कुमार और न ही उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने जुबान नहीं खोली है. न ही इन दोनों नेताओं ने इस पर खेद जताया है. उन्होंने कहा कि सरकार इस पूरे मामले को दबाना चाहती है. उन्होंने सीएम पर तंज कसते हुए पूछा कि अब कहां गई नीतीश जी की अंतरात्मा?. अब तक भाजपा नेता मनोज बैठा को क्यों नहीं गिरफ्तार किया गया? ऐसी खबरें फैलाई गईं कि उसने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. लेकिन हमें इस बारे में कुछ जानकारी नहीं मिल रही है. केवल प्रशासन ही यह बता सकता है कि उसने सरेंडर किया या फिर उसे गिरफ्तार किया गया या फिर वह नेपाल भाग गया.