Bihar news updates: बिहार की राजधानी में पटना के एम्स में भर्ती कोरोना मरीज ने अस्‍पातल के परिसर में सुसाइड कर ली है और सबसे हैरानी की बात यह है कि युवक के सुसाइड करने के कुछ घंटों बाद उसकी जांच रिपोर्ट निगेटिव निकली है.Also Read - बिहार: आंधी-तूफान और बिजली के कहर में 33 लोगों की मौत, सीएम ने 4-4 लाख रुपए की मदद का ऐलान किया

पटना एम्स प्रशासन ने इस आत्‍महत्‍या की पुष्टि की है. कोरोना वायरस से संक्रमित एक युवक को यहां इलाज के लिए रखा गया था. यहां उसे क्वारंटाइन में रखा गया था, इस दौरान उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. सोमवार को उसकी आत्‍महत्‍या के बाद जब कोरोना टेस्‍ट की रिपोर्ट आई तो निगेटिव थी. Also Read - सीबीआई की टीम छापे के बाद लालू यादव के आवास से धक्‍कामुक्‍की के बीच बाहर निकली, RJD चीफ, राबड़ी देवी, दो बेटियों पर FIR दर्ज

मिली जानकारी के मुताबिक, आत्‍महत्‍या करने वाला मरीज पटना के ही खगौल इलाके का निवासी है. इस युवक को 15 जून को पटना एम्स में भर्ती कराया गया था और जांच में कोरोना पॉजिटिव पाया गया था. इसके बाद उसे एक आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था. इस मामले में पटना के फुलवारी शरीफ पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेकर आत्महत्या की जांच शुरू की है. Also Read - सीबीआई छापों के बाद बोले सुशील मोदी- लालू यादव का नारा था- तुम मुझे जमीन दो, मैं तुम्हें नौकरी दूंगा

बता दें कि बिहार में कोरोना वायरस से अबतक 52 की मौत हो चुकी है और संक्रमितों की संख्या बढ़कर 7,893 हो चुकी है. सोमवार को देर शाम अपडेट आंकड़ों के मुताबिक, बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण पिछले 24 घंटे के दौरान पटना जिले में एक और व्यक्ति की मौत हो जाने से इस रोग से अबतक मरने वालों की संख्या 52 पहुंच गई, जबकि संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 7,893 हो गया.

राज्य में कोविड-19 से अब तक जिन 52 लोगों की मौत हुई, उनमें से दरभंगा में पांच, बेगूसराय एवं सारण में चार-चार, खगड़िया, नालंदा, पटना एवं वैशाली में तीन-तीन, भोजपुर, गया, जहानाबाद, मुजफ्फरपुर, नवादा, सीतामढ़ी एवं सिवान में दो-दो तथा अररिया, औरंगाबाद, भागलपुर, जमुई, कटिहार, मधेपुरा, मधुबनी, मुंगेर, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, रोहतास, समस्तीपुर एवं शिवहर जिले में एक-एक मरीज की मौत हुई है.

बिहार में पिछले 24 घंटे के भीतर कोरोना वायरस संक्रमण के 291 नए मामले प्रकाश में आने के साथ ही प्रदेश में सोमवार को इस रोग से संक्रमण के मामले बढ़कर 7,893 हो गए थे. बिहार में 1,63,476 नमूनों की जांच की जा चुकी है और 5767 मरीज ठीक हुए हैं.