Coronavirus Update in Bihar: बिहार में आगामी 15 जून से क्‍वारंटाइन सेंटर संचालित नहीं किए जाएंगे. बता दें कि बिहार देश का सबसे अधिक जनसंख्या घनत्व वाला राज्य है और इसमें भी अधिकतर आबादी ग्रामीण है. राज्य सरकार ने स्पष्ट किया है कि अब 15 मई से कोई क्वारंटाइन सेंटर नहीं चलेगा. राज्य के रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की कोई स्क्रीनिंग भी नहीं की जाएगी. हां… स्टेशनों पर जरूर मेडिकल हेल्प डेस्क होगी जहां जरूरत पड़ने पर मेडिकल सुविधा ली जा सकेगी.Also Read - कोरोना का डेल्टा वेरिएंट बेहद खतरनाक, चेचक की तरह आसानी से बन सकता है गंभीर संक्रमण का कारण- रिपोर्ट

राज्य सरकार के एक आदेश में आइसोलेशन केन्द्रों की संख्या बढ़ाने की बात की गई है. जिलों में टीम बनाकर मास्क लगाने के लिए प्रेरित करने का निर्देश दिया गया. बता दें कि दूसरे राज्‍यों से लाखों प्रवासी मजदूर बिहार पहुंचे हैं. Also Read - UP Covid-19 Update: कोरोना से लड़ने में सफल हुआ यूपी! आज सिर्फ 42 नए केस मिले, 729 एक्टिव केस बचे

मुख्‍य सचिव ने कहा है क‍ि समूह ‘ख’ स्थान या शहर से आने वाले व्यक्ति इंस्टिट्यूशनल क्‍वारंटाइन में रहने के अलावे होम क्‍वारंटाइन में भी रह रहे हैं. उन पर भी निगरानी रखी जा रही है और पल्स पोलियो की तर्ज पर टीम 14 दिनों तक निरंतर सर्वेक्षण कर रही है. यह बात बिहार के स्वास्थ्य सचिव ने कही है. Also Read - भारत ने 31 अगस्‍त तक इंटरनेशनल यात्री उड़ानों पर प्रतिबंध बढ़ाया, पढ़ें ये गाइडलाइंस

2 लाख 94 हजार प्रवासियों के घर का सर्वेक्षण किया जा चुका है, जिनमें से 74 व्‍यक्‍ति मिले हैं, जिनमे बुखार खांसी अथवा सांस लेने की शिकायत है.

बिहार देश का सबसे अधिक जनसंख्या घनत्व वाला राज्य है और इसमें भी अधिकतर आबादी ग्रामीण है. इसके बावजूद शहरी क्षेत्रों में तैनात 1,544 सरकारी डॉक्टरों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में केवल 1,333 डॉक्टर तैनात हैं. राज्य में स्वीकृत 11,645 चिकित्सकों के पदों में से 8,768 पद खाली हैं, जिनमें से 5,674 पद ग्रामीण, दूरदराज और दुर्गम इलाको के हैं.

तीन मई से अब तक 2,433 प्रवासी कामगारों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. इनमें महाराष्ट्र से लौटे 613, दिल्ली से 534, गुजरात से 342, हरियाणा से 213, उत्तर प्रदेश से 124, राजस्थान से 118, तेलंगाना से 103, पश्चिम बंगाल से 101 और पंजाब से 73 प्रवासी कामगार शामिल हैं.

बिहार में प्रवासी मजदूरों के आने के बाद राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से बढ़ी है. तीन मई के बाद 2,743 प्रवासी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इसमें महाराष्ट्र से 677, दिल्ली से 628, गुजरात से 405, हरियाणा से 237, उत्तर प्रदेश से 149 सहित अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी श्रमिक शामिल हैं.

– होम क्वारंटाइन में रहने वाले लोगों पर भी निगरानी रखी जा रही है
– पल्स पोलियो की तर्ज पर हो रही डोर टू डोर स्क्रीनिंग में
– करीब 2 लाख 94 हजार प्रवासी व्यक्तियों के घरों का सर्वेक्षण किया जा चुका है
– इनमें से अब तक 74 ऐसे व्यक्ति मिले हैं, जिनको खांसी, बुखार या फिर सांस लेने में दिक्कत की शिकायत है.
– ऐसे सिम्टम्स वाले प्रत्येक व्यक्ति का टेस्ट कराया जा रहा है
– पूर्व की गाइडलाइंस के मुताबिक आज के दिन कंटेनमेंट जोन की संख्या 234 है और अब जिला पदाधिकारी जिले की स्थिति के अनुसार कंटेनमेंट जोन का निर्धारण करेंगे.”