Doctor Utpal Kant Singh Dies: बिहार के जाने माने चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉक्टर उत्पल कांत सिंह (Doctor Utpal Kant Singh) का गुरुवार को 71 साल की उम्र में निधन हो गया. दिल्ली से सटे गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में डॉक्टर उत्पल कांत सिंह (Utpal Kant Singh Dies) ने आखिरी सांस ली. बताया जा रहा है कि डॉक्टर उत्पल कांत गंभीर बीमारी से ग्रसित थे और मेदांता में ही उनका इलाज चल रहा था. उनके निधन की खबर सुनते ही इलाके में शोक की लहर दौड़ गई है. डॉ. उत्पल कांत सिंह की गिनती देश के शीर्ष शिशु रोग विशेषज्ञों (Utpal Kant Singh Pediatrician) में होती थी.

डॉ. उत्पल कांत ने पटना के PMCH से MBBS की पढ़ाई की. इसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए वह लंदन चले गए. उन्होंने लंदन में MD, PHD और FRCP की डिग्री हासिल की. इसके बाद उन्होंने अमेरिका से FIAP और FCCP की डिग्री ली. इसके बाद वह वापस देश लौट गए. वे NMCH में प्रोफेसर बने और बाद वीआरएस ले लिया.

इसके बाद वह पटना में ही प्रैक्टिस करने लगे. जल्द ही लोग उनकी चिकित्सा के कायल हो गए. बिहार के कोने-कोने से लोग अपने बच्चों का इलाज कराने उनके पास पहुंचने लगे. बच्चों की नब्ज को देखकर ही उन्हें बीमारी का पता चल जाता था.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने डॉ. उत्पल कांत के निधन पर शोक व्यक्त की है. शोक संदेश में नीतीश कुमार ने कहा कि उत्पल कांत प्रख्यात शिशु रोग विशेषज्ञ थे. उनसे हमारा व्यक्तिगत संबंध था. उनके निधन से मुझे काफी दुख पहुंचा है. उनका निधन चिकित्सकीय क्षेत्र के लिए अपूर्णनीय क्षति है.

वहीं, वहीं, बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने भी उनके निधन पर शोक जताया है. गिरिराज सिंह ने ट्वीट कर लिखा, ‘सुप्रसिद्ध शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ उत्पलकांत जी का निधन बिहार और चिकित्सा जगत के लिए अपूरणीय क्षति है. प्रभु दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे. बच्चों के भगवान को विनम्र श्रद्धांजलि.