नई दिल्ली: चुनाव आयोग (ईसी) कोविड महामारी के बीच होने जा रहे बिहार विधानसभा चुनाव के प्रचार अभियान के लिए दिशा-निर्देश जारी कर सकता है. चुनाव आयोग के सूत्रों ने बताया कि अगले कुछ दिनों में जारी हाने जा रहे ये दिशा-निर्देश राजनीतिक दलों से प्राप्त फीडबैक पर आधारित होंगे. अधिकारियों ने लोगों को कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए मास्क लगाने, एक दूसरे से दूरी बनाकर रखने और अन्य एहतियाती उपाय करने के लिए कहा है. बिहार में एक लाख से अधिक इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं. Also Read - Bihar Special Train List/ Indian Railway: बिहार के लिए आज से शुरू होंगी 20 से ज्यादा नई स्पेशल ट्रेन, जानें आने-जानें की टाइमिंग

आयोग ने पिछले महीने राजनीतिक दलों से ‘‘अपने विचार एवं सुझाव भेजने को कहा था ताकि इस महामारी के दौरान उम्मीदवारों एवं राजनीतिक दलों के चुनाव प्रचार अभियान के लिए जरूरी दिशा-निर्देश तय किये जा सकें.’’ समझा जाता है कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) जैसे राजनीतिक दलों ने विधानसभा चुनाव में ‘डिजिटल चुनाव प्रचार अभियान’ की अवधारणा का विरोध किया है. Also Read - बिहार चुनाव! 14,000 करोड़ रुपये की लागत वाली परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे पीएम मोदी

जुलाई में आयोग को सौंपे ज्ञापन में नौ विपक्षी दलों ने बिहार में भाजपा द्वारा शुरू किये गये डिजिटल अभियान पर यह कहते हुए प्रश्न उठाया था कि इससे समान मौके की धारणा प्रभावित होती है. उन्होंने सामान्य चुनाव प्रचार अभियान की मांग की थी. Also Read - बिहार में पोस्टर वार: 'एक ऐसा परिवार जो बिहार पर भार' लालू 'सजायाफ्ता कैदी नंबर 3351'

जब यह सवाल किया गया कि क्या दिशा-निर्देश में डिजिटल और पारंपरिक चुनाव प्रचार के सम्मिश्रण का प्रस्ताव होगा तब एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दस्तावेज तय करते समय सभी बातों को ध्यान में रखा जाएगा. बिहार की 243 सदस्यीय विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर को समाप्त होगा.