नई दिल्ली. होली मस्ती, उमंग और उल्लास का त्योहार है. शहर हो या गांव, इस त्योहार की छटा ही निराली है. रंग, गुलाल और ढेरों तरह के पकवान के साथ गीत-संगीत की मौज होली को हर वर्ग के लिए खास बना देती है. शहरों में तो कई बार इस त्योहार का विकृत रूप भी नजर आता है, लेकिन गांवों में होली के रंग हर बार नई रंगत में नजर आते हैं. पुरुष हो या महिला, युवा हो या बुजुर्ग या फिर बच्चे ही क्यों न हों, यह त्योहार सबको एक रंग में रंग देता है. इस त्योहार की खास विशेषता होली के गीत और संगीत हैं. खासकर गांवों में जब ढोल और मंजीरे की थाप पर होली के रंगों में रंगी टोलियां जोगीरे की तान छेड़ती है तो माहौल और गुलाबी हो जाता है. लेकिन क्या आपको पता है होली के मौके पर गाया जाने वाला जोगीरा आखिर है क्या?

दरअसल, जोगीरा लोक भाषाओं में गाया जाने वाला एक संगीत है. अवधी हो या भोजपुरी, मैथिली हो या मगही, हर भाषा में जोगीरा गाया जाता है. हास्य और व्यंग्य के पुट के साथ सम-सामयिक मुद्दों या घटनाओं पर टीका-टिप्पणी करने की इससे अच्छी कला शायद ही भारत के अलावा कहीं और मिलती है. यही वजह है कि समय-समय पर नेताओं और राजनीतिक मामलों पर केंद्रित जोगीरा की रचनाएं बनती रही हैं और होली के अवसर पर इसे गांव-जवार में गाया जाता रहा है. जोगीरा दोहों या तुकबंदियों का मेल होता है, जिसमें दो से तीन पंक्तियों में किसी खास मुद्दे को बताया जाता है. यह सवाल-जवाब के फॉर्मेट में भी गाया जाता है. बिहार और उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में जोगीरा गाने की समृद्ध परंपरा रही है. आइए इस होली पर हम आपके लिए जोगीरा के कुछ दोहे लाए हैं, जिन्हें अभी से गुनगुनाना शुरू कर दीजिए ताकि होली के दिन दोस्तों के बीच जब आप जोगीरा सा…रा…रा…रा…, कहें तो आपका रंग सबसे अच्छा जमे. जोगीरा की प्रसिद्धि का आप इसी से अंदाजा लगा सकते हैं कि बॉलीवुड की सुपरहिट फिल्म ‘नदिया के पार’ में इसे भी एक गाने के रूप में रखा गया है.

दो लाइन वाले दोहे

दानापुर दरियाव किनारा, गोलघर निशानी
लाटसाब ने किला बनाया, क्या गंगा जल क्या पानी
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

दिल्ली देखो ढाका देखो, शहर देखो कलकत्ता
एक पेड़ तो ऐसा देखो, फर के ऊपर पत्ता
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

बाबा मांगे मुंह बा बा के, चेला दांत चियार
श्री श्री मांगे नाच नाच के, झुकी खड़ी सरकार
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

पूंछ पटककर कुक्कुर खाए, चाट चाट बिलार
सफाचट्ट कर माल्या खाए, खोज रही सरकार
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

चिउरा करे चरर चरर, दही लबा लब
दूनो बीचै गूर मिलाके मार गबा गब
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

सावन मास लुगइया चमके, कातिक मास कुकूर
फागुन मास मनइया चमके, करे हुकुर हुकुर
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

फिल्म ‘नदिया के पार’ का चर्चित गाना, जोगी जी… वाह… जोगी जी…(वीडियो साभारःयूट्यूब)

सवाल जवाब

सवाल – कौन काठ के बनी खड़ौआ, कौन यार बनाया है
कौन गुरु की सेवा कीन्हो, कौन खड़ौआ पाया है

जवाब – चनन काठ के बनी खड़ौआ, बढ़यी यार बनाया है
हम गुरु की सेवा कीन्हा, हम खड़ौआ पाया है
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

सवाल – किसके बेटा राजा रावण किसके बेटा बाली
किसके बेटा हनुमान जी जे लंका जारी

जवाब – विसेश्रवा के राजा रावण बाणासुर का बाली
पवन के बेटा हनुमान जी, ओही लंका जारी
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

सवाल – कौन खेत में गेहूं उपजे कौन खेत में धान
कौन खेत में लई लड़ाई के होला बलियान

जवाब – दोमट खेत में गेहूं उपजे मटियारे में धान
लोन चुकावत सब कुछ हारे, जाए कहां किसान
जोगीरा सा…रा…रा…रा…

(साभारः हिंदीकुंज.कॉम)