पटना: बिहार के कद्दावर नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुनाथ झा का दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में इलाज के दौरान रविवार देर रात निधन हो गया. 78 साल के रघुनाथ झा लंबे समय से किडनी की बीमारी से ग्रसित थे. वे बिहार के राजनीति की एक जाना-माना चहरा थे. Also Read - दिल्ली में बहाल होगी इंटरस्टेट बस सेवा, डीटीसी और क्लस्टर बसों में 20 सवारियों की लिमिट खत्म

1972 में पहली बार विधायक बने स्वर्गीय झा 90 के दशक में बिहार के सर्वाधिक लोकप्रिय और प्रभावशाली नेताओं में से एक थे. माना जाता है कि लालू प्रसाद यादव को बिहार का मुख्यमंत्री बनाए जाने के पीछे भी रघुनाथ झा की महत्वपूर्ण भूमिका थी. उन्होंने 1990 में मुख्यमंत्री पद की दावेदारी के लिए चुनाव भी लड़ा था. उन्होंने 3 सितंबर, 2015 को राष्ट्रीय जनता दल की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था. Also Read - VIDEO: DND फ्लाइ-वे पर प्रदर्शन से जाम की स्थिति, बिजनेसमैन की सुसाइड को लेकर गुर्जर समुदाय गुस्‍साया

बिहार के कद्दावर नेता रघुनाथ झा का संसदीय जीवन 37 वर्षों का रहा. वे शिवहर से लगातार 6 बार विधायक रहे, साथ ही गोपालगंज और बेतिया से 2 बार सांसद भी रहे. रघुनाथ झा जनता दल के गठन के बाद उसके प्रथम प्रदेश अध्यक्ष के साथ साथ सजपा ओर समता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रहे थे. शिवहर जिला को अलग पहचान दिलाने का भी श्रेय भी इन्हें जाता है.

रघुनाथ जनता दल के गठन के बाद उसके प्रथम प्रदेश अध्यक्ष के साथ सजपा ओर समता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रहे थे. साथ ही जनता विधानमंडल दल के नेता और जनता दल और समता पार्टी दल के मुख्य सचेतक भी रहे थे.

शिवहर जिला के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. झा अपने पिछे एक पुत्र और पुत्री सहित भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं. उनके निधन की खबर सुनते ही उसके समर्थकों ने शोक की लहर दौड़ गई है.