नई दिल्लीः देश में लॉकडाउन जारी हुए करीब 2 महीने का समय हो गया है. इस बीच देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके घर वापस पहुंचाने का काम जारी है. ऐसे में बिहार सरकार ने भी बस सेवा शुरू करने की तैयारी शुरू कर दी है. परिवहन विभाग जून के पहले हफ्ते से सरकारी और निजी दोनों तरह की बस सेवा शुरू करने की योजना और इसका प्रारूप तैयार कर रहा है. Also Read - कोविड-19 में भारतीय फुटबॉलर की पत्नी कर रही हैं वो काम जिसे दुनिया कर रही सलाम!

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने और इसे मेंटेन रखते हुए लोगों को उनके घरों तक पहुंचाने की योजना बनाई जा रही है. योजना के मुताबिक, अगर 31 मई के बाद देश में लॉकडाउन खत्म होता है तो राज्य में बस सेवा शुरू कर दी जाएगी. Also Read - CBSE के छात्रों को मिल सकती है राहत, परीक्षा के सिलेबस में हो सकती है कटौती

राज्य में यह बस सेवा कुछ जरूरी नियमों के साथ शुरू की जाएगी. ताकि, किसी भी तरह की असुविधा लोगों को ना हो और कोरोना के प्रसार को भी कंट्रोल किया जा सके. हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक, राज्य के परिवहन मंत्री संतोष कुमार निराला ने इस विषय पर सोमवार को विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक भी करेंगे और बस सेवा शुरू करने के प्लान को अंतिम रूप देंगे. बताया जा रहा है कि अगर जरूरत पड़ती है तो विभाग इस पर प्रमुख निजी बस संचालकों से भी राय ले सकता है. Also Read - कोविड-19 से संक्रमित पत्रकार ने एम्स की इमारत से कूदकर आत्महत्या की

बता दें निजी बस संचालक पहले ही बस सेवा शुरू करने की मांग कर चुके हैं. ऐसे में लॉकडाउन के बाद अगर राज्य में बस सेवा शुरू की जाती है तो सेनेटाइजिंग और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों का पालन करना इन बस संचालकों के लिए सबसे जरूरी है.

लॉकडाउन के बाद बस का संचालन समय सारिणी और रोटेशन के साथ होगा. वहीं बस में ओवरलोडिंग करने वाले के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जा सकती है. परिवहन विभाग की योजना के मुताबिक, राज्य में चरणबद्ध रूप में बस सेवा शुरू की जा सकती है.