गुवाहाटी. जीएसटी परिषद ने चोकलेट से लेकर डिटर्जेंट तक आम इस्तेमाल वाली 177 वस्तुओं पर कर दर को मौजूदा 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत करने का फैसला किया है. बिहार के उप -मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने यह जानकारी दी. सुशील मोदी ने यहां संवाददाताओं को बताया कि परिषद ने 28 प्रतिशत के सर्वाधिक कर दर वाले स्लैब में वस्तुओं की संख्या को घटाकर सिर्फ 50 कर दिया है. जो कि पहले 227 थी.Also Read - दिसंबर में GST संग्रह 1.29 लाख करोड़ रुपए हुआ, लेकिन नवंबर से रहा कम

Also Read - New Year 2022: आज से ऑनलाइन खाना मंगवाना हुआ महंगा, जूते-चप्पलों पर भी टैक्स बढ़ा

 जीएसटी परिषद ने यहां अपनी 23वीं बैठक में 177 वस्तुओं पर कर दर में कटौती कर दी. उल्लेखनीय है कि विपक्षी दलों द्वारा शासित राज्य व्यापक खपत वाली वस्तुओं को 28 प्रतिशत कर दायरे में रखने का विरोध कर रहे थे. जीएसटी दर के इस स्लैब में ज्यादातर लग्जरी व अहितकर वस्तुओं को रखा गया है. Also Read - Online Food Order: 1 जनवरी से ऑनलाइन खाना ऑर्डर करना हो जाएगा महंगा - जानिए क्यों

Madhya Pradesh Minister Om Prakash Dhurve says he has not been able to understand GST | जीएसटी पर सेमिनार में बोले BJP के मंत्री- ‘मैं खुद नहीं समझ पा रहा हूं इसे’

Madhya Pradesh Minister Om Prakash Dhurve says he has not been able to understand GST | जीएसटी पर सेमिनार में बोले BJP के मंत्री- ‘मैं खुद नहीं समझ पा रहा हूं इसे’

दरें तय करने वाली (फिटमैंट) समिति ने 28 प्रतिशत के स्लैब में आने वाली वस्तुओं की संख्या को घटाकर 62 करने की सिफारिश की थी जबकि परिषद ने इसमें वस्तुओं की संख्या को घटाकर 50 कर दिया है. देश में नयी माल व सेवाकर (जीएसटी) प्रणाली का कार्यान्वयन एक जुलाई से किया गया है. इसमें पांच कर स्लैब 0 प्रतिशत, पांच प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत व 28 प्रतिशत रखे गये हैं.

सुशील मोदी ने कहा, 28 प्रतिशत कर स्लैब में 227 वस्तुएं थी. फिटमैंट समिति ने इसमें वस्तुओं की संख्या घटाकर 62 करने की सिफारिश की थी जबकि जीएसटी परिषद ने इससे भी आगे बढ़कर 12 और वस्तुओं को इसके दायरे से हटाने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि सभी तरह की च्युइंगम, चॉकलेट, फेशियल मैकअप तैयारी के सामान, शैविंग व शैविंग के बाद काम आने वाले सामान, शैंपू, डियोडोरेंट, कपड़े धोने के डिटरजेंट पाउडर व ग्रेनाइट व मार्बल पर अब 18 प्रतिशत दर से जीएसटी लगेगा. उन्होंने कहा-इस बात पर सहमति थी कि 28 प्रतिशत श्रेणी में केवल अहितकर व गैर जरूरी सामान ही होंगे.