पटना: पटेल नवनिर्माण सेना (पनसे) के अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने शुक्रवार को कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात करने में उनकी कोई रुचि नहीं है, क्योंकि उन्होंने भाजपा से हाथ मिला लिया है. वह तेजस्वी यादव से मिलने की इच्छा रखते हैं. शुक्रवार को पटना पहुंचे पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद और उनके बेटे तेजस्वी यादव से मुलाकात की इच्छा जाहिर की. Also Read - बिहार फिर बनाव हो... CM नीतीश का वीडियो लॉन्च, शान से कह रहे हैं- हम बिहारी हैं

पटेल ने यहां पहुंचने के बाद मीडिया से कहा, “नीतीश कुमार ने अपना रास्ता बदल दिया है.. वह अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ हैं. उनसे मिलने और बातचीत करने का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि मैं भाजपा के खिलाफ हूं.” हार्दिक यहां कुछ कार्यक्रमों में हिस्सा लेने आए हुए हैं. Also Read - BJP के “आत्मनिर्भर बिहार” कैम्पेन पर तेजस्वी का तंज-24 साल से तो उधार के चेहरे पर निर्भर है

उन्होंने कहा, “मैं लालू प्रसाद से मिलकर उनसे बात करना चाहता हूं, लेकिन मुझे पता चला है कि वह मुंबई में हैं, जहां उनका इलाज चल रहा है.” उन्होंने कहा कि अब वह बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से मुलाकात करेंगे. Also Read - बिहार NDA में BJP-JDU की डील हो गई पक्की! नीतीश-जेपी नड्डा की हुई मुलाकात, चिराग का क्या होगा

इसके पहले दर्जनों की संख्या में युवकों ने पटना हवाईअड्डे पर हार्दिक की अगवानी की और उनके समर्थन में नारे लगाए. हार्दिक पिछली बार जब दिसंबर, 2016 में पटना आए थे, तब वह पटना हवाईअड्डे से सीधे मुख्यमंत्री नीतीश के आधिकारिक आवास पर गए थे और राज्य सरकार ने उन्हें वीआईपी सत्कार दिया था. लेकिन इस बार स्थिति अलग है.

नीतीश कुर्मी जाति के हैं, और हार्दिक गुजरात में ताकतवर अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) की पटेल जाति के हैं, ठीक उसी तरह जिस तरह बिहार में कुर्मी हैं.