Lalu Prasad Yadav: राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की हाईकोर्ट में जमानत याचिका पर 11 सितंबर तक सुनवाई टल गई है. अब इसपर सुनवाई 11 सितंबर को होगी. चारा घोटाले (Fodder Scam) मामले में  चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के केस में आज रांची हाईकोर्ट में लालू यादव की जमानत याचिका पर सुनवाई होनी थी. कोर्ट के फैसले पर सबकी निगाहें टिकी हैं कि लालू को बेल मिल जाएगी या फिर वो अभी जेल में ही सजा भुगतेंगे. Also Read - Bihar Opinion Poll: बिहार में लोगों की पसंद हैं पीएम मोदी, नीतीश का प्रभाव कम; सरकार बदलना चाहते हैं 50 प्रतिशत से ज्यादा मतदाता

रांची हाईकोर्ट के जस्टिस अपरेस सिंह की अदालत में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आज चारा घोटाला मामले में सुनवाई हुई . हाई कोर्ट के कॉज़ लिस्ट के नंबर दो पर मामला सूचीबद्ध था. जिसपर आज सुनवाई नहीं हुई है. दरअसल चारा घोटाला केस में चाईबासा कोषागार से तकरीबन 37 करोड़ की अवैध निकासी के मामले में लालू यादव को 24 जनवरी 2018 को 5 साल की सजा सुनाई गई थी. Also Read - बिहार में चुनाव के अभी से दिख रहे साइड इफेक्ट, कहीं उमड़ रहा प्यार तो कहीं पड़ी दरार

जेल में लालू यादव ने ढाई साल से ज्यादा का वक्त गुजार लिया है. इसी को आधार बनाते हुए लालू यादव के अधिवक्ता की तरफ से हाई कोर्ट में इस मामले में उनकी जमानत की अर्जी दाखिल की गई है. Also Read - Bihar Assembly Elections 2020: बिहार में कैसे होंगी चुनावी रैलियां और कितनी जुटेगी भीड़? आयोग ने दिया हर सवाल का जवाब

लालू यादव की तरफ से दायर की गई इस जमानत याचिका में ये भी कहा गया कि लालू यादव ने अब निर्धारित सजा की आधी अवधि की सजा पूरी कर ली है और उनका स्वास्थ्य अच्छा नहीं है. वो कई तरह की बीमारी से ग्रसित हैं से पीड़ित है. इसको आधार बनाकर दायर इस याचिका में संभावना जतायी जा रही है कि शायद लालू को जमानत मिल जाए.

बिहार में विधानसभा चुनाव की तैयारी काफी जोर-शोर से चल रही है और ऐसे में चुनाव से पहले लालू यादव की जमानत  की सुनवाई काफी अहम मानी जा रही थी.  इससे पहले, उन्हें चारा घोटाला के तीन मामलों में जमानत दी गई थी.

फिलहाल लालू यादव रांची के रिम्स अस्पताल में भर्ती हैं और आजकल कोरोना संक्रमण के मद्देनजर वो रिम्स के डायरेक्टर के आवास पर रह रहे हैं.