Bihar Flood: नेपाल में लगातार हो रही बारिश से बिहार-नेपाल सीमा पर बगहा में गंडक नदी के जलस्तर में भारी वृद्धि दर्ज की गई है जिसके बाद बिहार के कई इलाकों में फिर से बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है. गंडक नदी में उफान के बाद उत्तर बिहार के कुछ इलाकों में फिर से बाढ़ की स्थिति बन गई हैं.Also Read - Bihar Politics: बिहार में फिर होगी उलट-फेर? मुकेश सहनी ने दिए बड़े संकेत, तेजस्वी को बताया-छोटा भाई

बता दें कि गंडक नदी में 3 लाख 14 हज़ार क्यूसेक का बहाव हो रहा है, जिससे वाल्मीकिनगर बराज पर जलस्तर में वृद्धि दर्ज की गई हैं. नेपाल के तराई क्षेत्रों में बारिश के बाद इन इलाकों में फिर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है. जलस्तर में वृद्धि के बाद बगहा, बेतिया और गोपालगंज की बड़ी आबादी प्रभावित होगी. यहां लोगों की चिंता फिर से बढ़ गई है. Also Read - UP Assembly Election 2022: भाजपा से मिली निराशा, जदयू ने कहा-अब यूपी में हम अपने दम पर लड़ेंगे चुनाव

मौसम विभाग के अलर्ट के बाद बढ़े गंडक नदी के जलस्तर को देखते हुए वाल्मीकिनगर गंडक बराज के साथ ही जिला प्रशासन अलर्ट मोड में आ गया है. जिला प्रशासन ने अभियन्ताओंं को 24 घण्टे तटबन्धों पर मुस्तैद रहने का निर्देश दिया है, साथ ही सभी बांधों की नियमित मॉनिटरिंग के निर्देश दिए गए हैं. Also Read - India Post Bihar GDS Result 2021: भारतीय डाक ने बिहार जीडीएस परीक्षा का परिणाम जारी किया, चेक करें

नेपाल के तराई क्षेत्रों के साथ ही वाल्मीकिनगर और आसपास भारी बारिश के बाद गंडक नदी के जलस्तर में वृद्धि जारी है. वाल्मीकिनगर बराज पर गुरुवार की सुबह 5 बजे का डिस्चार्ज तीन लाख 14 हज़ार क्यूसेक दर्ज किया गया है जबकि बुधवार को जलस्तर दो लाख क्यूसेक से भी नीचे दर्ज किया गया था.

वहीं मौसम विभाग ने बिहार में अगले तीन दिनों तक भारी बारिश की संभावना जताई गई है. राज्य में सबसे ज्यादा बारिश तैयबपुर, फारबिसगंज और कटिहार में हुई है, ऐसे में नेपाल में भी हो रही बारिश ने बिहार की चिंता को और बढ़ा दिया है.