नई दिल्ली: बिहार में मंगलवार को बाढ़ की वजह से छह और लोगों की मौत हो गई. वहीं महाराष्ट्र के मुंबई और आसपास के इलाकों में भारी बारिश का दौर जारी है और मौसम विभाग ने इसके मद्देनजर बुधवार के लिए रेड अलर्ट जारी किया है. केरल के कुछ इलाकों, ओडिशा और पश्चिम बंगाल में भी भारी बारिश हो रही है और मौसम विभाग ने गुजरात के बड़े इलाके में अगले तीन दिनों तक बारिश होने का पूर्वानुमान लगाया है.तमिलनाडु के नीलगिरि जिले में सोमवार से हो रही भारी बारिश की वजह से करीब 200 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. उत्तर भारत में उत्तर प्रदेश के 16 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं. वहीं उत्तराखंड के बारिश से प्रभावित इलाकों में राहत एवं बचाव कार्य चल रहा है.Also Read - Bihar Weather Update: बिहार में सर्दी दे रही दस्तक, जानें कैसा रहेगा मौसम, कहां होगी बारिश

बिहार में बाढ़ से मरने वालों की संख्या मंगलवार को 19 हो गई. वहीं राज्य के 16 जिलों में 63.60 लाख बाढ़ से प्रभावित हुए हैं जो सोमवार के मुकाबले सात लाख अधिक है. राज्य में बहने वाली कई नदियां जैसे बागमती, बूढ़ी गंडक, कमलाबलान, अधवारा, खिहोरी, महानंदा और घाघरा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. गंगा नदी में कई स्थानों पर जलस्तर छह से 18 सेंटीमीटर तक बढ़ा है. महाराष्ट्र में, भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) और राज्य के कुछ और इलाके के लिए बुधवार को रेड अलर्ट जारी किया है. वहीं, ठाणे, पालघर, नासिक के लिए बुधवार और बृहस्पतिवार दो दिनों के लिए चेतावनी जारी की गई. Also Read - Alert in UP: पहाड़ों पर हो रही बारिश का यूपी में दिख रहा असर, दिल्ली-लखनऊ हाईवे बंद

मुंबई और उपनगरीय इलाकों के पटरी पर पानी भरने की वजह से कुछ रूट पर मंगलवार सुबह लोकल ट्रेन सेवाएं स्थगित रहीं. उपनगर कांदिवली में पश्चिमी एक्सप्रेस राजमार्ग (डब्ल्यूईएच) पर मंगलवार सुबह भूस्खलन से पश्चिमी उपनगर से दक्षिणी मुबंई की ओर यातायात बाधित रहा. दक्षिण मुंबई में कई कर्मचारियों के अदालत ना पहुंचने पर बंबई उच्च न्यायालय ने कई मामलों की ऑनलाइन सुनवाई स्थगित कर दी. महाराष्ट्र सरकार ने बारिश की वजह से मुंबई और उपनगरीय इलाकों स्थित अपने कार्यालयों में छुट्टी घोषित कर दी. उत्तरी मुंबई के गोरई तट से करीब 12 किलोटर दूर समुद्र में नौका डूबने से दो मछुआरे लापता हो गए हैं जबकि 11 लोगों को बचा लिया गया है. उपनगरी सांताक्रूज के नाले में 35 वर्षीय एक महिला और उसके दो बच्चे बह गए. ठाणे में पूरी रात हुई बारिश की वजह से बिजली के खंभे में आए करंट की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई. Also Read - Uttarakhand Flood: उत्तराखंड में बारिश बनी आफत, अबतक 40 लोगों की हुई मौत, वायुसेना हेलीकॉप्टर से कर रही रेस्क्यू

गुजरात में, आईएमडी ने पूरे प्रदेश में अगले तीन दिनों तक बारिश होने का पूर्वानुमान लगाया है. वहीं मंगलवार से शुक्रवार के बीच राज्य के कुछ इलाकों में बहुत भारी बारिश होने की भविष्यवाणी की है. सौराष्ट्र के कई इलाकों खासतौर पर गिर सोमनाथ, जूनागढ़, अमरेली और राजकोट जिलों में दिन में भारी बारिश हुई. मौसम विभाग ने दक्षिण और उत्तरी गुजरात से लगे तट पर रहने वाले मछुआरों को आठ अगस्त तक समुद्र में नहीं जाने की अपील की है. गुजरात के सौराष्ट्र-कच्छ इलाके के साथ-साथ दमन एवं दादरा नगर हवली में भी इस अवधि में मध्यम स्तर की बारिश होने की संभावना है. केरल में, इडुकी, वायनाड और पलक्कड में भारी बारिश हुई और मौसम वैज्ञानिकों का पूर्वानुमान है कि इसे पूरे हफ्ते मध्य और उत्तरी केरल में बारिश का दौर जारी रहेगा.

अधिकारियों ने बताया कि भवानी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और निचले इलाके में रह रहे कम से कम 51 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है. आईएमडी ने इस हफ्ते के लिए केरल के इडुकी, मलाप्पुरम, कोझिकोड, वायनाड, कन्नूर और कासरगोड के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. अन्य जिलों के लिए इसी अवधि के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है. तमिलनाडु में, मौसम विभाग ने चार से आठ अगस्त के बीच नीलगिरि और कोयंबटूर जिलों के कुछ इलाकों में भारी से भारी बारिश होने का पूर्वानुमान जताया है. कोयंबटूर को लेकर आई खबर के मुताबिक मेट्टुपलायम में भवानी नदी के किनारे रहने वाले लोगों के लिए बाढ़ की चेतावनी जारी की गई है क्योंकि पिल्लूर बांध से अतिरिक्त पानी छोड़ा गया है.

उत्तराखंड में अधिकारियों ने बताया कि बादल फटने की घटना में 18 लोगों की मौत के अलावा गत रात 40 परिवार नदी के कटान और भूस्खलन की वजह से घर ढहने से बेघर हो गए हैं. उत्तर प्रदेश के 16 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं और राज्य से होकर बहने वाली शारदा, राप्ती और सरयू नदी कुछ स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. बाढ़ से 777 गांव प्रभावित हुए हैं जबकि 282 गांवों में पानी घुस गया है. देश के पूर्वी भाग ओडिशा के कुछ इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है और यह सिलसिला इस सप्ताहांत तक चलने की उम्मीद है. ओडिशा के उत्तरी और दक्षिणी तटीय इलाके में मध्यम दर्जे की बारिश हो रही है जबकि भीतरी हिस्से और पुरी जिले के कुछ इलाकों में बहुत भारी बारिश हो रही है.

मौसम विभाग ने कई जिलों के लिए बुधवार सुबह तक के लिए ऑरेज चेतावनी जारी की है लोगों को बहुत भारी बारिश के लिए तैयार रहने को कहा है. मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है. दक्षिण बंगाल के कई जिलों में सोमवार रात से ही मध्यम दर्जे की बारिश हो रही है. कोलकात में मंगलवार दोपहर ढाई बजे तक 17 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई.असम में पानी कम होने से बाढ़ की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है. हालांकि, आधिकारिक बुलेटिन के मुताबिक 15 जिले के 1.96 लाख लोग अब भी बाढ़ से प्रभावित हैं. इस साल असम में बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं में 136 लोगों की मौत हो चुकी है.