पटना: बिहार में एक आश्रय गृह में रहने वाली दो महिलाओं की यहां पटना के एक अस्पताल में मौत हो गई. पुलिस ने यह जानकारी दी. आसरा आश्रय गृह में रहने वाली एक 40 वर्षीय महिला और एक 18 वर्षीय लड़की की शुक्रवार रात पटना मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में मौत हो गई. हालांकि न्‍यूज 18 की रिपोर्ट के अनुसार शनिवार शाम दोनों को मृत हालत में अस्‍पताल लाया गया था.

इस घटना की सूचना न तो पुलिस और न समाज कल्याण विभाग को दी गई. गौरतलब है कि इसके कुछ घंटे पहले ही विभाग के अधिकारियों के साथ पुलिस की एक टीम ने शहर के राजीव नगर इलाके में स्थित आसरा आश्रय गृह पर छापा मारा था और वहां कार्यरत कर्मचारियों से पूछताछ की थी. पुलिस ने एक 50 वर्षीय व्‍यक्ति को गिरफ्तार भी किया था. इस शख्‍स के खिलाफ आश्रय गृह में रहने वाली महिलाओं को भागने के लिए उकसाने की शिकायतें मिली थीं. पुलिस को आसरा शेल्‍टर होम में रहने वालों से यह शिकायत मिली थी कि पड़ोस में रहने वाला राम नगीना सिंह उर्फ बनारसी उन्‍हें भागने के लिए उकसाता है. डीएसपी मनोज कुमार सुधांशु ने बताया कि बनारसी से पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार किया गया है.

मुजफ्फरपुर स्कैंडलः बालिका गृह में 11 घंटे तक तलाशी, सीबीआई के शिकंजे में ब्रजेश ठाकुर का बेटा

दोनों महिलाओं की मौत के कारण का पता नहीं चल पाया है. रिपोर्ट के अनुसार आश्रय गृह के प्रबंधन ने पुलिस से महिलाओं की मौत की जानकारी छुपाई. पटना मेडिकल कॉलेज के डॉक्‍टरों के अनुसार शनिवार रात शवों का पोस्‍टमार्टम किया गया. इसके बाद रविवार सुबह पटना पुलिस मामले की जांच पड़ताल के लिए शेल्‍टर होम पहुंची.

शेल्टर होम रेप केस: ब्रजेश ठाकुर ने कहा-कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहता था, इसलिए मुझे फंसा दिया

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में एक बालिका गृह में 34 नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म की घटना जुलाई में सामने आई थी. उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में एक आश्रय गृह से 24 लड़कियों को पिछले सप्ताह तब बचाया गया, जब उनमें से एक ने पुलिस को बताया कि उन लोगों का यौन उत्पीड़न किया जा रहा है.