पटना: बिहार की राजधानी पटना में एक हत्या से शहर थर्रा उठा है. राजधानी के पॉश इलाके में शुमार पुनाईचक में बेखौफ बदमाशों ने एक अपार्टमेंट में घुसकर पटना एयरपोर्ट पर कार्यरत इंडिगो के मैनेजर रुपेश सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस दौरान अपराधियों ने उन्हें 6 गोलियां मारी. बता दें कि बदमाश कुसुम विलास अपार्टमेंट में घुसने से पहले ही घात लगाए हुए थे. इस दौरान मौका पाकर उन्होंने घटना को अंजाम दिया.Also Read - बिहार: नीतीश कुमार के गृह जनपद नालंदा में शराब पीने से 8 की मौत, पुलिस जांच में जुटी

हालांकि इस घटना के बाद लगातार नीतीश सरकार पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं. एक तरफ तेजस्वी यादव ने जहां बिहार सरकार को गुंडों की सरकार बताया वहीं भाजपा के विधायक नितिन नवीन ने कहा कि अगर अपराधी अपराध करके भाग रहा है तो उसका एनकाउंटर कर देना चाहिए। Also Read - Train Accident: पटना जंक्‍शन से 98 यात्री Bikaner-Guwahati Express में हुए थे सवार

बता दें कि इससे पहले JAP नेता व पूर्व सासंद पप्पू यादव ने हत्याकांड को लेकर नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अब किस बात की समीक्षा कर रहे हैं. पप्पू यादव ने कहा कि बिहार पुलिस को अब फ्री हैंड देने का वक्त आ गया है. बिहार में अपराधियों के एनकाउंटर करने की जरूरत है. Also Read - केंद्रीय मंत्री Nitin Gadkari भी कोरोना वायरस से संक्रमित, राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा भी हो चुके हैं पॉजिटिव

रुपेश सिंह की हत्या मामले में बिहार की राजनीति अब गरमा चुकी है. सत्ता पक्ष के साथ साथ अब विपक्ष भी नीतीश कुमार की अगुवाई वाली सरकार में प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े करने लगी है. इस हत्याकांड की जांच के लिए एक SIT का गठन किया गया है. हालांकि लोगों की मांग है कि इस मामले को सीबीआई के हवाले कर दिया है.

नेता प्रतिपक्ष सह राजद नेता ने हत्याकांड को लेकर ट्वीट करते हुए कहा कि अनैतिक और अवैध सरकार के संरक्षण में अपराधों और दुष्कर्मों की प्रतिदिन संख्या बढ़ना एनडीए की सामूहिक रूप से विफलता है. नीतीश जी द्वारा अपराधों को स्वीकार न करना और अपराधों की छिपाने की चेष्टा करना ही अपने आप में सबसे बड़ा अपराध है. यही आपराधियों के लिए रामबाण भी है. नेता प्रतिपक्ष ने नीतीश कुमार को लेकर कहा कि बिहार उनसे नहीं संभल रहा, उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए.

बता दें कि घटना मंगलवार की शाम सवा सात बजे की है, जब हालात पूरी तरह सामान्य था. इसी बीच इंडिगो के मैनेजर की हत्या कर दी गई. गोलियों की आवाज सुनकर आसपास के इलाके में अफरा-तफरी मच गई. लोग जब अपार्टमेंट के पास पहुंचे ते उन्होंने पाया कि ड्राइविंग सीट की साइड विंडो चकनाचूर होकर गिरी पड़ी है और हर जगह कांच बिखरा पड़ा है. वहीं चालक सीट पर बैठे रूपेश सिंह लहू-लुहान अधमरे से पड़े हुए थे.

बदमाशों ने रुपेश सिंह को 6 गोलियां मारी थी, इस कारण उनके शरीर से लगातार काफी खून बह रहा था. लोगों द्वारा जब उन्हें एक निजी अस्पताल में ले जाया गया तो डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. बता दें कि अपार्टमेंट में हुई गोलीबारी की आवाज पहले तो सबको पटाखे की आवाज लगी लेकिन जब वे घटनास्थल के पास पहुंचे तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई. क्योंकि बदमाश रुपेश सिंह की गोली मारकर हत्या करके भाग चुके थे.